20 लाख में Tesla! एलन मस्क भारत में लगाएंगे प्लांट, अंतिम दौर में बातचीत

  नई दिल्ली

TESLA की इलेक्ट्रिक कारों का इंतज़ार करने वालों के लिए अच्छी ख़बर है. वर्षों की टाल-मटोल के बाद, एलन मस्क की टेस्ला ने भारत में 5 लाख इलेक्ट्रिक वाहनों की वार्षिक क्षमता वाली एक कार फैक्ट्री स्थापित करने के निवेश प्रस्ताव पर भारत सरकार के साथ चर्चा शुरू कर दी है. हाल ही में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका यात्रा पर थें तब एलन मस्क ने उनसे मुलाकात कर इस बात की पुष्टी की थी कि, वो भारत में अपना मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगाएंगे और निवेश करेंगे.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अब टेस्ला और भारत सरकार के बीच बातचीत अंतिम दौर में है. इस रिपोर्ट में सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि, Tesla न केवल भारत में अपना प्लांट शुरू करेगा बल्कि इंडिया को चीन के ही तर्ज पर इंडो-पैसिफिक रीजन में एक एक्सपोर्ट हब के तौर पर विकसित करने की योजना है. हालांकि अभी इस मामले में कंपनी या फिर एलन मस्क की तरफ से कोई जानकारी साझा नहीं की गई है.

…20 लाख रुपये की Tesla:

बताया जा रहा है कि, भारत में कंपनी जो प्लांट लगाने की योजना बना रही है उसकी वार्षिक उत्पादन क्षमता तकरीबन 5 लाख इलेक्ट्रिक वाहन होगी. इतना ही नहीं, कंपनी के इलेक्ट्रिक कारों की शुरुआती कीमत तकरीबन 20 लाख रुपये हो सकती है. वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के साथ टेस्ला की बातचीत चल रही है और सरकार को भी एक "अच्छी डील" की उम्मीद कर है.  
 

मामले की जानकारी रखने वाले लोगों के हवाले से रिपोर्ट में बताया गया है कि, टेस्ला अपने ऑटो पार्ट्स और इलेक्ट्रॉनिक्स सीरीज को भारत में लाने और इस प्रक्रिया में टैक्स छूट प्राप्त करने की संभावना तलाश रहा है. दरअसल कंपनी भारत में अपना स्वंय का ऑटो कंपोनेंट सीरीज़ शुरू करना चाहती है, जबकि भारत सरकार ने टेस्ला को देश में मौजूदा ऑटो कंपोनेंट सप्लाई का मूल्यांकन करने को कहा है.

भारत में सबसे बड़ी संभावना:

जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीते दिनों अमेरिका के यात्रा पर थें उस वक्त टेस्ला के सीईओ एलन मस्क ने उनसे मुलाकात के दौरान कहा था कि, "नरेंद्र मोदी भारत की परवाह करते हैं और उन्होंने टेस्ला को देश में पर्याप्त निवेश करने के लिए प्रोत्साहित किया है, इसके अलावा, मस्क ने खुद को "नरेंद्रा मोदी का प्रशंसक" बताया और विश्वास व्यक्त किया कि भारत में दुनिया के किसी भी अन्य बड़े देश से बेहतर संभावनाएं और अवसर हैं. इस मुलाकात के बाद से ही भारत में टेस्ला की एट्री के रास्ते पर घिरे बादल छट गए थें. बहरहाल, अभी इस मामले में बहुत कुछ होना बाकी है, समय के साथ इसमें और भी नए अपडेट आते रहेंगे.