खातियार गिर को रामसर साइट घोषित करने का प्रस्ताव भेजा जाएगा

पर्यावरण मंत्री डंग की अध्यक्षता में राज्य वेटलेण्ड प्राधिकरण की बैठक

भोपाल

पर्यावरण मंत्री हरदीप सिंह डंग की अध्यक्षता में आज पर्यावरण परिसर में हुई राज्य वेटलेण्ड प्राधिकरण की बैठक में चम्बल अभयारण्य के खातियार गिर ईको रीजन वेटलेण्ड को देश के नये रामसर साइट में शामिल करने के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। प्रदेश में भोज वेटलेण्ड सहित 4 रामसर साइट हैं। इनमें से इंदौर की यशवंत सागर और सिरपुर तालाब, माधव राष्ट्रीय पार्क शिवपुरी के साख्य सागर को पिछले वर्ष केन्द्र शासन से रामसर साइट का दर्जा मिला है।

केन्द्र शासन की एनपीसीए योजना में धार वेटलेण्ड कॉम्पलेक्स (धूपसागर, देवीसागर और मुंजसागर) और गिरवर तालाब शाजापुर की परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है। धार वेटलेण्ड कॉम्पलेक्स के लिये परियोजना राशि 37 करोड़ 14 लाख और गिरवर तालाब के 6 करोड़ 69 लाख की स्वीकृति मिल चुकी है। प्रदेश में 2 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्रफल वाले 15 हजार से अधिक तालाबों का संरक्षण सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन अनुसार किया जा रहा है।

मंत्री डंग ने तालाब के केचमेंट एरिया के संबंध में शिकायतों और न्यायालयीन प्रकरणों की जानकारी ली। जल स्रोतों के संरक्षण में समाज, प्रशासन को भागीदार बनाने के उद्देश्य से जिला वेटलेण्ड संरक्षण समितियों का गठन किया जा रहा है। अब तक 22 जिलों में इनका गठन हो चुका है।

मंत्री डंग ने मध्यप्रदेश राज्य वेटलेण्ड प्राधिकरण द्वारा मध्यप्रदेश की रामसर साइट-भोज वेटलेण्ड, साख्य सागर, सिरपुर और यशवंत सागर पर आधारित "रामसर साईट्स" पुस्तिका का विमोचन भी किया।

प्रमुख सचिव पर्यावरण गुलशन बामरा, कार्यकारी निदेशक एप्को मुजीर्बुरहमान, मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव सी.एम. ठाकुर, राज्य वेटलेण्ड प्राधिकरण के सदस्य श्रीनिवास मूर्ति, अभिलाष खाण्डेकर, डॉ. सुनील कुमार नायक, डॉ. सुभाष सिंह, डॉ. सौरभ पोपली और लोकेन्द्र ठक्कर सहित जल संसाधन, वन, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद, जैव विविधता बोर्ड, राजस्व के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।