शिप्रा उफनी मंदिरों में घुसा पानी, बीना नदी से खेत डूबे, नर्मदा-पार्वती का भी जलस्तर बढ़ा

भोपाल

MP में बारिश का सिस्टम एक्टिव है। राजधानी भोपाल में मंगलवार रात से रुक-रुक कर बारिश हो रही है। पूरा प्रदेश तरबतर है। बुधवार को सीहोर, राजगढ़, रायसेन और शाजापुर में अति भारी बारिश होने का अनुमान है। मौसम विभाग ने इन जिलों के लिए अलर्ट जारी किया है। यहां 24 घंटे में 8 इंच तक बारिश हो सकती है। भोपाल, जबलपुर समेत प्रदेश के 16 जिलों में हैवी रेन का अलर्ट है।

सीनियर मौसम वैज्ञानिक एचएस पांडे ने बताया कि प्रदेश में बुधवार को भी बारिश की एक्टिविटी ज्यादा रहेगी। नार्थ ईस्ट राजस्थान के ऊपर कम दवाब का क्षेत्र बना हुआ है, जो उत्तरी मध्यप्रदेश से होकर पूर्व की ओर बढ़ रहा है। वहीं, ट्रफ लाइन एक्टिव है। इस कारण बारिश हो रही है।

रायसेन के बेगमगंज इलाके में‎ लगातार हो रही बारिश से बीना नदी उफान‎ पर आ गई है। कोकलपुर गांव में 150 एकड़ खेत डूब गए। बड़वानी में नर्मदा का जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंच गया है। श्योपुर में पार्वती नदी का जलस्तर भी लगातार बढ़ रहा है। उज्जैन में बुधवार सुबह शिप्रा नदी का पानी रामघाट पर पहुंच गया। घाट के कई मंदिर डूब गए। छोटे रपटे के ऊपर से शिप्रा का पानी बह रहा है।

 

MP के 11 जिलों में बारिश, उज्जैन में 2 इंच पानी गिरा
मध्यप्रदेश में मंगलवार को तेज बारिश का दौर जारी रहा। पिछले 24 घंटे में उज्जैन में 2.67 इंच पानी गिर चुका है। उमरिया में 2.11, ग्वालियर में 1.61 और रायसेन में 1.10 इंच बारिश दर्ज हुई।