इंदौर

सांसद ने इंदौर पहुंचकर रेप पीड़िता के परिजनों को दी आर्थिक मदद

इंदौर
 सोशल मीडिया (social media) के इस दौर में जहां खबरें आसानी से एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंच रही है वही दूसरी और मदद की आस लगाने वालों के लिए तो सोशल कई दफा वरदान साबित हो रहा है। कुछ ऐसा ही इन दिनों इंदौर (Indore) में देखने को मिल रहा है। दरअसल, मार्च माह में महेश्वर में 11 साल की मासूम के साथ उसी के घर पर 34 साल के हैवान ने सारी हदें पार कर इतनी बेरहमी से उसके साथ रेप किया था कि आखिर में उसे इलाज के लिए खरगोन ले जाना पड़ा। वही मासूम बच्ची की दोबारा हालत बिगड़ने पर उसे इलाज के लिए इंदौर के एम.वाय. अस्पताल लाया गया जहां डॉक्टर्स ने गरीब माता – पिता को बताया कि सर्जरी और ऑपरेशन के लिए उसे बड़े निजी अस्पताल ले जाना पड़ेगा। जिसके बाद पीड़ित मासूम को इलाज के लिए अरविंदो अस्पताल लाया गया। जहां आज मासूम के डॉक्टर्स व उसके परिजनों से मिलने तामिलनाडु के डीएमके सांसद डीएनवी सेंथिल कुमार इंदौर पहुंचे।

बता दे कि डीएमके सांसद एक डॉक्टर भी है और शुक्रवार को उन्होंने परिजनों की आर्थिक मदद के लिहाज से 1 लाख रुपये भी दिए इतना ही नही उन्होंने मासूम बच्ची के हरसंभव इलाज के साथ परिजनों के जीवन यापन में पूरा सहयोग करने का आश्वासन भी दिया। वही उन्होंने इंदौर के विशेषज्ञ चिकित्सको से मासूम पीड़िता के वर्तमान हालात पर चर्चा भी की। निर्भया की तर्ज पर महेश्वर की मासूम के साथ रेप करने वाला तो जेल में है लेकिन अब रेप पीड़ित मासूम जीवन और मौत का संघर्ष कर रही है। दरअसल, 11 वर्षीय बच्ची के गुप्तांग बुरी तरह जख्मी हो गए है और मेडिकली वो अनफिट है वही उसको बचाने के उसके मल मार्ग में भी तब्दीली की गई है।

तामिलनाडु के धर्मपुरी से डीएमके सांसद सेंथिल कुमार (DMK MP Senthil Kumar) ने इंदौर में मीडिया को बताया कि ट्विटर के जरिये उन्होंने पीड़ित परिजनों की गुहार का वीडियो देखा था जिसके बाद उन्होंने इंदौर आने का निर्णय लिया। वही उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने अब तक 50 हजार की आर्थिक मदद की है और बच्ची का निःशुल्क इलाज भी किया जा रहा है। हालांकि, उन्होंने ये भी कहा कि वो बच्ची को ऐसे हालात में नही देख सकते है लिहाजा, जरूरत पड़ी तो दिल्ली एम्स या तामिलनाडु में बच्ची का इलाज कराया जाएगा। उन्होंने बताया बच्ची के इलाज के लिए परिजन सबकुछ बेच चुके है ऐसे में उनके परिजनों के जीवन यापन का जिम्मा भी वो संभालेंगे वही बच्ची को वो इस हालात में नही छोड़ सकेंगे।