भोपाल

धर्मांतरण करा रहे NGO को MP में नहीं रहने देंगे, CM शिवराज की सख्ती

भोपाल
भोपाल में आज सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कलेक्टर कमिश्नर के साथ मैराथन कॉन्फ्रेंस की. इसमें मुख्यमंत्री ने साइबर क्राइम रोकने और स्मार्ट पुलिसिंह पर जोर दिया. उन्होंने एमपी में सक्रिय उन सारे NGO के कामकाज और रिकॉर्ड खंगालने के लिए कहा जिन्हें विदेश से फंड मिलता है. सीएम ने कहा धर्मान्तरण करने और समाज को तोड़ने वाले NGO को एमपी में नहीं रहने दिया जाएगा.

सीएम शिवराज सिंह चौहान की कलेक्टर कमिश्नर कॉन्फ्रेंस की शुरुआत ही कानून व्यवस्था की समीक्षा के साथ हुई. सीएम ने साइबर अपराध / साइबर सुरक्षा को लेकर बनाई गई कार्ययोजना के बारे में डीजीपी से पूछा. सीएम ने कहा साइबर सुरक्षा और साइबर अपराधों पर रोक महत्वपूर्ण हो गई है. हम साइबर अपराध रोकने में पीछे न रहें. पूरी तैयारी करें.  रोडमैप बनाकर दें. हम प्रो एक्टिव रहें. सीएम ने अधिकारियों को दिसंबर तक कार्ययोजना बनाने और जनवरी से काम शुरू करने के निर्देश दिए.

मुख्यमंत्री ने मध्य प्रदेश में सक्रिय ऐसे एनजीओ की पड़ताल करने के लिए कहा जिन्हें विदेशों से चंदा मिलता है और जिनकी गतिविधियां संदिग्ध हैं. उन्होंने कहा ऐसे सभी एनजीओ, जिन्हें फॉरेन फंडिंग मिलती है उन्हें चिन्हित करें. फंडिंग का वो क्या उपयोग कर रहे हैं, उनकी जानकारी जरूरी है. वैमनस्य फैलाने और समाज को तोड़ने वाले, धर्मांतरण करने वाले एनजीओ के लिए मध्यप्रदेश में जगह नहीं है. उन्हें हम यहां रहने नहीं देंगे. समाज को तोड़ने में कई एनजीओ का भी हाथ है, उनकी सूची तैयार होनी चाहिए. जो भी लोग इनसे जुड़े हैं उनकी भी जानकारी होनी चाहिए.

कॉन्फ्रेंस के दौरान सीएम शिवराज सिंह ने बेहतर काम करने वाले जिलों के अधिकारियों की तारीफ की. वहीं दूसरी तरफ सामान्य प्रदर्शन वाले जिलों के अधिकारियों को फटकार लगायी. सीएम ने सामान्य प्रदर्शन करने वाले विदिशा, धार, मुरैना जिलों के एसपी से जताई नाराजगी जताई. जबकि मंडला, रायसेन, नरसिंहपुर, दतिया, भिंड, शहडोल, उमरिया, छतरपुर, बड़वानी को बेहतर काम करने पर बधाई दी.

SMART पुलिसिंग पर जोर
मुख्यमंत्री ने कॉन्फ्रेंस के दौरान स्मार्ट पुलिसिंग पर जोर दिया और उसके मायने बताए. उन्होंने कहा स्मार्ट पुलिसिंग मतलब

  • S – Strict and Sensitive (कठोर एवं संवेदनशील)
  • M – Modern and Mobile (आधुनिक एवं गतिशील)
  • A – Alert & Accountable (सजग एवं उत्तरदायी)
  • R – Reliable and Responsive (विश्वसनीय एवं अनुक्रियाशील)
  • T – Tech-Expert and well Trained (तकनीक दक्ष एवं कुशल प्रशिक्षित)

कलेक्टर-कमिश्नर कॉन्फ्रेंस में माओवादियों का भी जिक्र हुआ. उनके खिलाफ हुए एक्शन की जानकारी दी गई. पिछले दो साल में सात हार्डकोर माओवादी पुलिस मुठभेड़ में मारे गये. तीन हार्डकोर माओवादी गिरफ्तार किये गये. लगभग 20 विस्फोटक डंपों का पता लगा कर भारी मात्रा में विस्फोटक जब्त किया गया. अफसरों ने बताया कि पिछले 2 साल में तेंदूपत्ता ठेकेदारों से रंगदारी लगभग बंद है. माओवादियों को हथियार सप्लाई करने वाले गिरोह के खिलाफ कार्रवाई की गई. 8 लोग गिरफ्तार किये गए और एक दर्जन से अधिक बार माओवादियों से आमने सामने गोलीबारी हुई.

कलेक्टर – कमिश्नर कॉन्फ्रेंस 5 घंटे से ज्यादा वक्त तक जारी रही. इसमें सीएम शिवराज सिंह ने लापरवाह कलेक्टर्स से नाराज़गी जताई. छतरपुर और दतिया कलेक्टर से अविवादित नामांतरण के कमजोर निपटारे और केस पेंडिंग होने पर नाराजगी जताई. मुख्यमंत्री ने कहा आप अविवादित प्रकरण का निपटारा नहीं कर पा रहे हैं.