देश

गोपाल राय बोले- दिल्ली में निर्माण कार्यों पर अगले आदेश तक रोक, निर्माण श्रमिकों को दिए जाएंगे 5-5 हजार रुपये

नई दिल्ली
दिल्ली-एनसीआर में एक बार फिर तेजी से खराब होती हवा के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने आज कुछ सुधारात्मक उपायों को आगे बढ़ाने का फैसला किया है। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली में अगले आदेश तक निर्माण एवं तोड़फोड़ की गतिविधियों पर रोक रहेगी। इसके साथ ही सभी निर्माण श्रमिकों को पांच-पांच हजार रुपये दिए जाएंगे। गोपाल राय ने कहा कि वाहनों से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए शुरू किए गए 'रेड लॉइट ऑन, गाड़ी ऑफ' अभियान को भी 18 दिसंबर तक आगे बढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा कि आवश्यक सेवाओं में लगे ट्रकों के अलावा अन्य सभी ट्रकों के प्रवेश पर प्रतिबंध सात दिसंबर तक बढ़ाया गया है। हालांकि, सीएनजी या बिजली से चलने वाले ट्रकों को प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। राय ने कहा कि गैर-प्रदूषणकारी निर्माण गतिविधियों जैसे प्लंबिंग कार्य, आंतरिक सजावट, बिजली का काम और बढ़ई के कामों की अनुमति दी जाएगी। विशेषज्ञों का कहना है कि कम तापमान और हवा की गति कम रहने के कारण स्थिति स्थिर हो गई है और आने वाले दिनों में दिल्ली की हवा की गुणवत्ता 'बहुत खराब' रहने की संभावना है। भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुमान के मुताबिक अगर बारिश होती है तो स्थिति में सुधार हो सकता है।

दिल्ली में नहीं सुधरा प्रदूषण का हाल
दिल्ली में वायु गुणवत्ता सोमवार को भी 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज की गई। इस दौरान वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 373 रहा। वायु गुणवत्ता और मौसम पूर्वानुमान और अनुसंधान (सफर) ने इसकी जानकारी दी। सफर ने कहा कि सोमवार को एक्यूआई 'बहुत खराब' श्रेणी में बना रहा। 29 और 30 नवंबर को हवा की गति मध्यम स्तर की होगी, जिससे प्रदूषक कणों का बिखराव कम होगा और वायु गुणवत्ता में मामूली सुधार आएगा, लेकिन एक्यूआई 'बहुत खराब' श्रेणी में ही रहेगा। एजेंसी ने बताया कि 1 दिसंबर से तेज हवाओं के चलने और तापमान में गिरावट आने से वेंटिलेशन कम होगा, नतीजतन वायु की गुणवत्ता में कुछ गिरावट आएगी। कम मश्रिण परत की ऊंचाई प्रदूषकों के कुशल फैलाव को रोकेगी। सोमवार को दिल्ली के पीएम 2.5 में पराली जलाने से संबंधित प्रदूषण का योगदान तीन फीसदी रहा। एजेंसी के अनुसार, सोमवार को पीएम 2.5 और पीएम 10 के स्तर की सांद्रता 10:00 बजे 'बहुत खराब' श्रेणी 215 और 'खराब' श्रेणी 348 में दर्ज किया गया था। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक, आईटीओ, लोधी रोड और मंदिर मार्ग सहित राष्ट्रीय राजधानी के कई इलाकों में वायु गुणवत्ता क्रमशः 420, 367 और 401 के एक्यूआई के साथ 'बेहद खराब' श्रेणी में दर्ज की गई, जबकि आनंद विहार और जहांगीरपुरी में एक्यूआई क्रमशः 449 और 459 पर दर्ज किया गया, जो 'गंभीर श्रेणी' के अन्तर्गत आता है। दिल्ली के आसपास इलाकों में वायु गुणवत्ता कई श्रेणियों में दर्ज की गई। फरीदाबाद में एक्यूआई 303, गाजियाबाद में 376, गुरुग्राम में 410 और नोएडा सेक्टर-1 में 372 पर दर्ज किया गया।