उत्तरप्रदेश

चुनाव से पहले अब पश्चिमी यूपी का पारा गरम करेंगे ओवैसी 

लखनऊ
उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों ने अपनी ताकत झोंक दी है। असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुसलमीन (एआईएमआईएम) ने भी अयोध्या समेत पूर्वी यूपी के कई जिलों में कार्यक्रम करने के बाद अब पश्चिमी यूपी का रुख किया है। ओवैसी के कार्यक्रमों से पश्चिमी यूपी कि सियासत में एक बार फिर उबाल देखा जा सकता है। बताया जा रहा है कि रविवार से ओवैसी गाजियाबाद से पश्चिमी यूपी के कार्यक्रमों की शुरुआत करेंगे। कार्यक्रम शुरू होने से पहले ही हालांकि किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने जवाबी हमला बोलना शुरू कर दिया है। 

 अपने समर्थन आधार को मजबूत करने के लिए, एआईएमआईएम ने बहराइच, बाराबंकी, सुल्तानपुर, बलरामपुर, आजमागढ़, कानपुर और प्रयागराज सहित मध्य और पूर्वी यूपी के जिलों में भी रैलियों का आयोजन किया है। 22 सितंबर को ओवैसी ने संभल में एक रैली को संबोधित किया. ओवैसी द्वारा संभल को "गाजियों" की भूमि कहे जाने के बाद भाजपा और एआईएमआईएम नेताओं के बीच तीखी नोकझोंक हुई। एआईएमआईएम के एक नेता ने कहा कि पार्टी ने 2022 के यूपी विधानसभा चुनाव में 100 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने का फैसला किया है। "चुनाव के लिए पार्टी कैडर को उत्साहित करने के साथ-साथ, ओवैसी विभिन्न जिलों में "वंचित, शोषित समाज" सम्मेलन आयोजित करके पार्टी के समर्थन आधार का भी आकलन कर रहे हैं। पार्टी ने अपना आधार मजबूत करने के लिए राज्य के मुस्लिम बहुल इलाकों पर ध्यान केंद्रित किया है।