उत्तरप्रदेश

NTA की UPCET मेरिट सूची में गड़बड़ी, AKTU ने काउंसलिंग प्रक्रिया पर लगाई रोक

इलाहबाद
एकेटीयू ने नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) की यूपीसीईटी -2021 मेरिट सूची में गड़बड़ी मिलने के बाद जारी काउंसलिंग प्रक्रिया को रोक दिया है। इस रोक को लेकर एनटीए को भी जरूरी सूचना दे दी गई है। अब काउंसलिंग प्रक्रिया को गड़बड़ियों की पूरी तरह जांच होने के बाद नए तरीके से शुरू किया जाएगा। जिन अभ्यर्थियों ने अब तक इस प्रक्रिया के तहत दाखिला ले लिया है, उनकी फिजिकल रिपोर्टिंग को भी रोक दिया गया है।

इस काउंसलिंग के रोके जाने का असर लखनऊ विश्वविद्यालय पर भी देखने को मिल सकता है। विश्वविद्यालय ने इसी सत्र से फार्मास्यूटिकल साइंस का पाठ्यक्रम शुरू किया है। संस्थान में सभी सीटों पर दाखिले हो गए थे, लेकिन अब इन्हें नए रूप से फिर से शुरू किया जाएगा। इसके अलावा विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग फैकल्टी की भी 90 फीसदी सीटों पर दाखिले हो गए थे।

कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग, कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, सिविल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन  इंजीनियरिंग और इलेक्ट्रिकल  इंजीनियरिंग की 498 में से 432 सीटों पर दाखिले हो चुके थे। अब अभ्यर्थियों को दोबारा काउंसलिंग का इंतजार करना पड़ेगा। इनमें से किसी भी अभ्यर्थी के दाखिले के रद्द होने की स्थिति में संस्थान को उसकी फीस वापस करनी पड़ेगी।

इस पूरे मामले पर एकेटीयू ने बताया कि एनटीए की ओर से जारी की गई मेरिट सूची में रैंकिंग से जुड़ी गड़बड़ियां सामने आई हैं। इस कारण काउंसलिंग प्रक्रिया को रोक दिया गया है। दोबारा मेरिट सूची के जारी होने के बाद काउंसलिंग को नए तरीके से शुरू किया जाएगा। अब तक हो चुके दाखिलों पर भी रोक लगा दी गई है, नई सूची आने के बाद प्रक्रिया दोबारा शुरू होगी। इनमे जो दाखिले सही पाए जाएंगे, उन्हें छोड़कर बाकी को रद्द कर दिया जाएगा। नाटा (नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट इन आर्किटेक्चर) की मेरिट सूची के तहत हो रही बी आर्क की काउंसलिंग प्रक्रिया जारी रहेगी, इसका यूपीसीईटी से कोई संबंध नहीं है।