उत्तरप्रदेश

सपा में अपनी पार्टी के विलय की चर्चा के बीच शिवपाल यादव ने घोषित किया प्रत्याशी

 मेरठ 
प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का सपा में विलय की चर्चा के बीच शिवपाल यादव ने यूपी चुनाव के लिए प्रत्याशियों की घोषणा भी शुरू कर दी है। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने मेरठ में पार्टी के जिलाध्यक्ष विपिन चौधरी को कैंट का प्रत्याशी घोषित कर दिया। यह जानकारी जिला मीडिया प्रभारी जीशान अहमद ने दी। उन्होंने बताया कि उनकी घोषणा लखनऊ में मंगलवार को हुई बैठक में की गई।

अखिलेश और शिवपाल के बीच सुलह की होती रही है चर्चा: 
बताया जा रहा है चाचा शिवपाल यादव और भतीजे अखिलेश यादव के बीच सुलह हो सकती है। कई मौके पर शिवपाल यादव कह भी चुके हैं कि वह बड़े हैं और बात के लिए तैयार हैं लेकिन कोई बात ताे करें। वहीं अखिलेश भी कई कार्यक्रम में बोल चुके हैं कि चाचा का पूरा ख्याल रखा जाएगा, उनके लिए सीट छोड़ी  जाएगी, उनके कार्यकर्ताओं का पार्टी में पूरा सम्मान होगा। वहीं इस तरह के बयानबाजी के बीच शिवपाल यादव का मेरठ कैंट से प्रत्याशी घाेषित कर देना एक बार फिर से इस ओर इशारा कर रहा है कि दोनों के बीच कभी कुछ खटास है। 

बूथ कमेटियों के जरिए साधेगी चुनाव
मेरठ में समाजवादी पार्टी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पूरी तरह से चुनावी मोड पर आ गई है। लगातार धरना प्रदर्शन के जरिए जहां संगठन को धार दी जा रही है तो करीब 3000 बूथ कमेटियों का गठन कर विस्तार किया जा रहा है। पार्टी आलाकमान को भी रिपोर्ट भेजकर संगठन की गतिविधियों को बताया गया है।
 
डॉक्टर ने महिला से की अश्लील हरकत, भीड़ ने पीटा
जिलाध्यक्ष चौधरी राजपाल सिंह ने बताया कि सातों विधानसभा को 30 सेक्टर में बांटकर सेक्टर प्रभारी नियुक्त किए जा चुके हैं। प्रत्येक सेक्टर के बूथ प्रभारी सहित बूथ कमेटी बना दी गई है। पूरे जनपद में ब्लॉक स्तर पर संगठन मजबूती से चुनाव कार्य में जुट गया है। उन्होंने बताया कि सभी प्रकोष्ठ, जिला व महानगर कार्यकारिणी, नगर पालिका व नगर पंचायत की कार्यकारिणी और बूथ समितियों के 25 हजार पदाधिकारी चुनाव में जुट गए हैं। मेरठ जनपद की सातों विधानसभा में 2947 बूथ हैं, जिनकी बूथ कमेटी में 10-10 पदाधिकारी हैं। यह सभी लगातार अपने क्षेत्र में बैठक कर सपा कार्यकाल की उपलब्धि बता रहे हैं। उन्होंने बताया कि 10 महीनों से किसानों के चल रहे आंदोलन में सपा लगातार सक्रिय है। विभिन्न बिरादरी से जुड़े लोगों को पार्टी में शामिल कर संगठन का विस्तार किया जा रहा है। मामले में पार्टी आलाकमान को रिपोर्ट भेज दी गई है।