उत्तरप्रदेश

गोरखपुर में जनता दरबार: धैर्य रखिए, सभी की समस्याएं होंगी दूर: सीएम योगी 

 गोरखपुर 
हिन्दू सेवाश्रम में जनता दर्शन में फरियादियों से मुखातिब सीएम योगी आदित्यनाथ ने उन्हें आश्वास्त किया कि धैर्य रखिए! सभी की समस्याओं को निस्तारण कराया जाएगा। उन्होंने साख खड़े कमिश्नर रवि कुमार एनजी, डीएम विजय किरण आनंद से कहा कि लोगों की समस्याओं को गुणवत्तापूर्ण एवं त्वरित निस्तारण सुनिश्चित कराया जाए। 01-01 कर उन्होंने तकरीबन 150 फरियादियों से उनकी कुर्सियों पर जाकर मुलाकात की। हालांकि व्यस्तता के कारण वे यात्री निवासी में इंतजार कर रहे 350 फरियादियों से पास स्वयं नहीं जा सके। अधिकारियों को निर्देशित किया वहां लोगों की समस्याएं सुने। मुख्यमंत्री के सामने जमीनी विवाद और पुलिस से जुड़ी शिकायतें काफी संख्या में आई थीं। यात्री निवास में बैठे 350 लोगों की समस्याएं कमिश्नर, डीएम और मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय के प्रभारी मोतीलाल ने सुनी। सभी के प्रार्थना पत्र लेकर कार्रवाई का आश्वासन दिया। जनता दर्शन कार्यक्रम में गोरखपुर और बस्ती मण्डल के बाहर से जिलों से भी लोग अपनी समस्याएं लेकर पहुंचे थे। 

सीएम ने इन लोगों ने की शिकायत, मिला आश्वासन
चिलुआताल इलाके के सरहरी के रहने वाले मनोज ने सीएम को बताया कि मानबेला की रहने वाल कल्लो खातून से उन्होंने जमीन बैनामा कराया था। आरोप है कि उनकी जमीन पर उन्हीं के पड़ोसी शशि सिंह ने कब्जा कर लिया है। शिकायत करने पर पुलिस कार्रवाई के बजाए भगा देती है। सीएम से समाधान का आश्वासन दिया। गोरखनाथ हुमांयुपुर की रहने वाली प्रेमा देवी ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनके पति स्वर्गीय कैलाश प्रसाद होमगार्ड थे। बीते त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में सहजनवा में ड्यूटी लगी थी। ड्यूटी से लौटते समय गीडा इलाके में दुर्घटना के दौरान मौत हो गई। इसके लिए पति के मृत्यु के बाद वे मुआवजे के लिए होमगार्ड दफ्तर के चक्कर लगा रही हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं है।  पीपीगंज के ठाकुर प्रसाद वर्मा ने 88 सफाई कर्मचारी ने शिकायत किया कि नगर पंचायत में फर्जी तरीके से सफाई कर्मचारियों को बगैर ड्यूटी के ही भुगतान किया जा रहा है। दावा किया कि पिछले दिनों एसडीएम के निरीक्षण में 47 कर्मचारी ड्यूटी से गायब भी मिले थे। मांग किया कि जांच करा कर इस घोटाले को रोका जाए। कैंट इलाके के दाउदपुर की रहने वाली स्मिता ओझा ने सीएम से गुहार लगाई कि उनकी शादी फरवरी 2020 में सिंघड़िया के अविनाश त्रिपाठी से हुई थी। शादी के बाद से ससुराल वालों ने दहेज के लिए प्रताड़ित कर घर से निकाल दिया। अब ससुराल के लोग उन्हें रास्ते में रोक कर केस वापस लेने के लिए जान से मारने की धमकिया दे रहे हैं लेकिन पुलिस सुनवाई नहीं कर रही।