छत्तीसगढ़ रायपुर

रायपुर सराफा एसोसिएशन ने किया नये एचयूआईडी नियम का विरोध

रायपुर
रायपुर सराफा एसोसिएशन हॉल मार्किंग यूनिक एचयूआईडी का पूरजोर विरोध करते हुए केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल एवं केंद्रीय ब्यूरो प्रमुख प्रमोद तिवारी के नाम मंगलवार को बीआईएस छत्तीसगढ़ राज्य प्रमुख वी. गोपीनाथन को ज्ञापन सौंपकर व्यवहारिक दिक्कतों को दूर करने की मांग की है। क्योंकि प्रत्येक गोल्ड ज्वेलरी पर यूनिक आईडेंटिफिकेशन नंबर डालना अनिवार्य किया गया है। ज्ञापन सौंपने वालों में रायपुर सराफा के वरिष्ठ सदस्य धरमचंद भंसाली, अध्यक्ष हरख मालू, छत्तीसगढ़ सराफा एसोसिएशन के पूर्व पदाधिकारी प्रकाश गोलछा एवं रविकांत लूंकड़ शामिल थे।

अध्यक्ष मालू ने बताया कि हॉल मार्किंग की अनिवार्यता लेने के लिए व्यापारियों को यूनिक एचयूआईडी लेना अनिवार्य है लेकिन इसकी जटिल प्रक्रियाओं के कारण सराफा कारोबारी काफी परेशान है। मालू ने बताया कि यह नया नियम व्यापारियों एवं कारीगरों के लिए फांसीवादी कानून है इसलिए इस पर तत्काल रोक लगाया जाना चाहिए। केंद्र सरकार द्वारा अदुरदर्शिता पूर्ण निर्णयों की वजह से सराफा व्यापारी वर्तमान में इतिहास के सबसे विकट व्यवसायिक संकट से जूझ रहे हैं। देश के प्रत्येक सराफा व्यापारी हॉल मार्किंग कानून का समर्थन करता है लेकिन केंद्र सरकार व बीआईएस के अधिकारियों ने पिछले दिनों कहा था कि हम एचयूआईडी नियम को अभी लागू नहीं करने जा रहे है। उसके बावजूद भी इस नियम को लागू कर दिया गया। केंद्र सरकार कि मंशा सिर्फ और सिर्फ क्वालिटी कंट्रोल करने की है तो एचयूआईडी के माध्यम से अतिरिक्त बाध्यता क्यों लागू की जा रही है। यह सराफा व्यापारियों के किसी भी वर्ग को हॉलमार्क सेंटर में एचयूआईडी स्वीकार नहीं है।

मालू ने कहा कि देश की 80 प्रतिशत आबादी गांव में रहती है और ग्रामीण सराफा व्यापारी पोर्टल व सॉफटवेयर नहीं चला सकते है जिनको ध्यान में रखकर नीति निर्धारण होना चाहिए। पूरे देश के ज्वेलरी ट्रेड को मार्क स्वीकार है पर हॉल मार्क करने हेतु जो पोर्टल व सॉपटवेयर बीआईएस ने तैयार किया है जिसमें जेवर लोड़ करने के बाद जेवर में हाल मार्क होगा इस ट्रेड का छोटा और मध्यम व्यापारी इस में सक्षम नहीं है। मैन्यूअल व्यवस्था भी लागू रहनी चाहिये। मतलब दोनों व्यवस्था हो पोर्टल के माध्यम से भी और मैनुअल के माध्यम से भी हॉलमार्क हो। इस नये नियम का रायपुर सराफा एसोसिएशन पूरजोर करते हुए मंगलवार को बीआईएस छत्तीसगढ़ राज्य प्रमुख वी. गोपीनाथन से सौजन्य मुलाकात केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल एवं केंद्रीय ब्यूरो प्रमुख प्रमोद तिवारी के नाम ज्ञापन सौंपते हुए सोना जेवर पर हॉलमार्क कानून के अंतर्गत अघोषित व अप्रत्यक्ष रुप से लगाए गए एचयूआईडी कानून की विसंगतियों को तत्काल दूर किया जाए। सराफा एसोसिएशन की बातों पर गोपीनाथन ने सहमति जताते हुए केंद्रीय उपभोक्ता मंत्रालय से समन्वय स्थापित कर दिक्कतों को दूर करने की बात कहीं है।