भोपाल

चेन्नई पहुँचे प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सारंग

भोपाल
चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने चेन्नई पहुँचकर तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री एम. सुब्रमण्यम से मुलाकात की। सारंग ने कहा, बहुत प्रसन्नता है कि एम. सुब्रमण्यम के नेतृत्व में तमिलनाडु राज्य में हेल्थ सर्विसेज लगातार बढ़ रही हैं।

ऑक्सीजन के चलते कहीं भी कोई मौतें नहीं हुई

सारंग ने कहा कि तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री सुब्रमण्यम से उनकी मुलाकात हुई है। उनका भी कहना है कि ऑक्सीजन की कमी के चलते तमिलनाडु में कहीं भी मौतें नहीं हुई है।

सारंग ने कहा कि महामारी में हर व्यवस्था छोटी होती है, ऑक्सीजन एक चुनौती थी, लेकिन उसकी कमी नहीं थी। हमने 600 मीट्रिक टन एक दिन में प्रेक्योर किया जबकि कंजप्शन 457 मीट्रिक टन था। उन्होंने वैक्सीनेशन को लेकर कहा कि मध्यप्रदेश में 2 करोड़ 60 लाख लोगों को वैक्सीनेशन कर चुके हैं। सबसे बड़े हॉटस्पॉट रहे इंदौर और भोपाल में 75 प्रतिशत से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लग चुकी हैं। यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि दिसंबर तक सभी लोगों को वैक्सीनेट कर दिया जाएगा। वैक्सीन की कमी नहीं है, लोगों में उत्साह ज्यादा है, एक सैशन में जितने लोगों को वैक्सीन लगनी है उससे अधिक लोग पहुँच रहे हैं। जून के महीने में 11 करोड़ वैक्सीन दी गई थी, जो अब 13 करोड़ दी गई है, ऐसे में वैक्सीन की कहीं कोई कमी नहीं है।

चिकित्सा शिक्षा मंत्री सारंग ने तीसरी लहर की तैयारियों को लेकर कहा कि कोरोना को लेकर मध्यप्रदेश काफी कंफर्टेबल पोजीशन में है। कोरोना अभी समाप्त नहीं हुआ है, कम जरूर हुआ है। कोरोना के पीक समय जितनी टेस्टिंग की जा रही थी, उतनी ही टेस्टिंग अभी भी लगातार जारी है। हमारी सरकार की कोशिश है कि मध्यप्रदेश में तीसरी लहर न आए और यदि आती है, तो उसकी संस्थागत प्लानिंग की गई है। हर एक इन्फ्रास्ट्रक्चर की अपनी एक प्लानिंग होगी।