देश

तय होगा घाटी का भविष्य, जम्मू कश्मीर के 14 नेताओं के साथ 24 जून को पीएम मोदी करेंगे मुलाकात

नई दिल्ली
जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को खत्म करने के बाद केंद्र सरकार की ओर से पहली बार घाटी के नेताओं के साथ बातचीत की पहल की गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जम्मू कश्मीर के 14 नेताओं को मुलाकात करने के लिए बुलाया है। यह मुलाकात 24 जून को होगी। केंद्रीय गृह सचिव ने शनिवार की शाम जम्मू कश्मीर के राजनीतिक दलों के नेताओं को पीएम मोदी के साथ बैठक के लिए आमंत्रित किया है, जिसमे नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीपूल्स डेमोक्रैटिक पार्टी और सीपीआई के नेता भी शामिल हैं। इस बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। पीएम के साथ बैठक के पहले सभी नेताओं को आरटीपीसीआर टेस्ट कराने के लिए कहा गया है। 

केंद्र की ओर से पीएम के साथ बैठक के लिए एनसी के नेता डॉक्टर फारुक अब्दुल्ला, ओमर अब्दुल्ला,काग्रेस के गुलाम नबी आजाद, तारा चंद, जीए मीर, पीडीपी की नेता महबूबा मुफ्ती, पीपूल्स कॉन्फ्रेंस के सजाद गनी लोन, मुजफ्फर हुसैन बेग, अपना पार्टी के अल्ताफ बुखारी, भाजपा के रवींद्र रैना, निर्मल सिंह और कवींद्र गुप्ता, सीपीआई (एम) के एमवाई तारिगामी, नेशनल पैंथर्स पार्टी के प्रोफेर भीम सिंह को बैठक के लिए न्योता दिया गया है। सीपीआई के नेता और गुपकार गठबंधन के प्रवक्ता एमवाई तारिगामी ने बताया कि हमे आधिकारिक न्योता मिला है, गठबंधन एक साथ मिलकर इस प्रस्तावित बैठक पर चर्चा करेगा। 

 सरकार इससे पहले एनसी के अध्यक्ष और गुपकार एजेंडा चीफ फारुक अब्दुल्ला ने कहा था कि हम आधिकारिक न्योता मिलने के बाद हम सभी एक साथ इसपर चर्चा करेंगे। पांच दलों के गुपकार गठबंधन के मुखिया फारुक अब्दुल्ला ने हाल में केंद्र के साथ चर्चा की इच्छा जताई थी। रिपोर्ट के अनुसार फारुक अब्दुल्ला पहले नेता थे जिनसे केंद्र ने संपर्क किया था। 2019 में अनुच्छेद 370 को खत्म किए जाने के बाद अब्दुल्ला पहले नेता थे जिन्हें केंद्र ने गिरफ्तार किया था। पीडीपी प्रवक्ता सुहैल बुखारी ने कहा कि महबूबा मुफ्ती ने पॉलिटिकल अफेयर्स कमेटी की बैठक बुलाई है, यह बैठक रविवार को होगी, जिसमे प्रस्तावित बैठक पर फैसला लिया जाएगा।