देश

पुणे की स्‍टार्ट-अप कंपनी ने बनाया Non-toxic लंबे समय तक असरदार रहने वाला 

पुणे
बाजार में जल्‍द ही एक ऐसा हैंड सैनिटाइजर उपलब्ध होगा जो पर्यावरण के अनुकूल होगा साथ ही हाथों को कोमल रखेगा। हाथों को ड्राई नहीं करेगा। पुणे स्थित एक स्टार्ट-अप द्वारा सिल्वर नैनोपार्टिकल्स से अल्कोहल मुक्त, गैर-ज्वलनशील और गैर-विषाक्त हैंड सैनिटाइज़र तैयार किया गया है। वर्तमान समय में बाजार में जो भी सैनिटाइजर बाजार में उपलब्ध है वो बार-बार हैंड सैनिटाइज़र लगाने के कारण हाथों का बार-बार सूखना एक बड़ी मुसीबत होती है जिसका लोगों ने COVID 19 महामारी के दौरान सामना किया है।

 WeinnovateBiosolutions द्वारा विकसित हैंड सैनिटाइज़र संक्रमण पर काफी कारगर और रोग संबंधी वायरस का खात्‍मा करने के लिए सर्वश्रेष्‍ठ बताया जा रहा है। अन्‍य सैनिटाइज की अपेक्षा ये अधिक प्रभावी है इस लिए बार-बार उपयोग करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। सिल्वर नैनोपार्टिकल्स संपर्क में आने वाले सूक्ष्मजीवों को मारने में कारगर हैं। इसके अलावा, इसे स्‍टोर किया जा सकता है। इसने केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) द्वारा हैंड सैनिटाइज़र के लिए क्लिनिकल टेस्‍ट पास कर दिया है। 

WeinnovateBiosolutions को विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (DST) के तहत राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी उद्यमिता विकास बोर्ड (NSTEDB) के CAWACH 2020 अनुदान द्वारा समर्थन दिया गया है और उद्यमिता विकास केंद्र (वेंचर सेंटर), पुणे में इनक्यूबेट किया गया था। उन्होंने कोलाइडल सिल्वर सॉल्यूशन-आधारित हैंड सैनिटाइज़र विकसित किया है। यह तकनीक वायरल नेगेटिव-स्ट्रैंड आरएनए और वायरल बडिंग के संश्लेषण को रोकने के लिए सिल्वर नैनोपार्टिकल्स की क्षमता पर काम करती है। केंद्रीय मंत्री स्‍मृति ईरानी ने मनीष पॉल को चाय के बजाए सर्व किया काढ़ा, बोलीं "काढ़ा युक्त, चिंता मुक्त" डॉ अनुपमा इंजीनियर, कोफाउंडर और सीओओ वेनोवेट बायोसॉल्यूशन ने कहा "हम अध्ययन के परिणामों के बारे में बहुत आश्वस्त हैं और सीडीएससीओ, भारत से हम हैंड सैनिटाइज़र निर्माण के लिए लाइसेंस प्राप्त करने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। हमें यकीन है कि इस तरह के नवाचार भारत को अपने 'आत्मानबीर भारत' मिशन की ओर धकेलेंगे और भारत को भविष्य में इस तरह की महामारियों का सामना करने के लिए एक आत्मनिर्भर राष्ट्र बनाएंगे"।