भोपाल

वनों और वन्य-प्राणियों को नुकसान पहुँचाए बिना कराए जाएँ विकास कार्य

भोपाल
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में वन क्षेत्रों में विकास कार्यों के लिए दी जाने वाली अनुमतियों में इस बात का पूरा ध्यान रखा जाए कि विकास कार्यों से प्रदेश के वनों एवं वन्य-प्राणियों को कोई नुकसान न हो। वन्य-प्राणियों के विरूद्ध अपराध करने वालों के विरूद्ध न केवल तुरंत कार्रवाई हो, बल्कि उन्हें सजा भी मिलना भी सुनिश्चित किया जाए।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि जंगली जानवरों से जनता को कोई हानि न हो, इसके लिए भी पूरे प्रयास किए जाएँ। मुख्यमंत्री चौहान आज मंत्रालय में मध्य प्रदेश राज्य वन्य-प्राणी बोर्ड की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में वन मंत्री कुंवर डॉ. विजय शाह, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव वन अशोक वर्णवाल आदि उपस्थित थे।

नवम्बर में अफ्रीका से चीता आएगा

वन मंत्री कुंवर डॉ. विजय शाह ने बताया कि प्रदेश में नवम्बर माह में  अफ्रीका से चीता आएगा। चम्बल अभयारण्य में घड़ियालों की संख्या बढ़कर 2176 तथा डाल्फिन की संख्या 82 हो गई है। गिद्धों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। सतपुड़ा टाइगर रिजर्व एवं भेड़ाघाट को विश्व धरोहर की संभावित सूची में शामिल किया गया है। बाघों की गणना वर्ष 2022 में प्रारंभ होगी।

रातापानी अभयारण्य में 4 लेन मार्ग की स्वीकृति

बैठक में रातापानी अभयारण्य में राष्ट्रीय राजमार्ग-69 के 4 लेन चौड़ीकरण कार्य को स्वीकृति प्रदान की गई।  रातापानी अभयारण्य में दमोह-पटेरा जल समूह प्रदाय योजना, ओरछा अभयारण्य में निमाड़ी-पृथ्वीपुर जल समूह प्रदाय योजना तथा वीरांगना दुर्गावती अभयारण्य में जबेरा-तेन्दूखेड़ा समूह जल प्रदाय योजनाओं में भूमिगत पाइप लाइन डालने की अनुमति दी गई। विभिन्न क्षेत्रों में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने की अनुमति भी दी गई।

शर्तों के साथ कटनी-सिंगरौली  रेल्वे लाइन दोहरीकरण कार्य को अनुमति

बैठक में संजय टाइगर रिजर्व में कटनी-सिंगरौली रेल लाइन दोहरीकरण एवं विद्युतीकरण कार्य को शर्तों के साथ अनुमति प्रदान की गई। इसे भारत सरकार को शर्तों के साथ भेजा जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि सिंगरौली दूरस्थ क्षेत्र है। यहाँ रेल लाइन दोहरीकरण होना चाहिए।

घाटीगांव अभयारण्य का सर्वे करवाएँ

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा सोनचिरैया पक्षी के संबंध में घाटीगाँव अभयारण्य का सर्वे करवाया जाए। करेरा अभयारण्य में वर्ष 1994 से सोनचिरैया नहीं दिखने पर भारत सरकार द्वारा इसे डीनोटिफाई कर दिया गया है। मध्यप्रदेश में सोनचिरैया (ग्रेट इंडियन बस्टर्ड) पक्षी विलुप्ति की कगार पर है।

जंगली हाथियों के बचाव के लिए प्रयास करें

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व क्षेत्र में जंगली हाथियों द्वारा ग्रामीणों को नुकसान न हो, ऐसे प्रयास किए जाएँ। इसके लिए विशेषज्ञों का समूह बनाया जाए, जो देश-दुनिया के बचाव के उपायों का अध्ययन कर रिपोर्ट दे।

प्रदेश में वन्य-प्राणियों के उपचार की आधुनिकतम सुविधाएँ

वन मंत्री कुंवर डॉ. विजय शाह ने बताया कि मध्यप्रदेश में वन्य-प्राणियों के उपचार की आधुनिकतम सुविधाएँ हैं। जबलपुर में सर्वसुविधायुक्त अस्पताल है। अब आधुनिकतम ऑपरेशन टेबिल और वेंटिलेटर भी आ गए हैं। अभी दो इन्क्यूबेटर स्वीकृत किए गए हैं। शीघ्र ही जबलपुर में अंतराष्ट्रीय वन्य-प्राणी संरक्षण कान्फ्रेंस भी आयोजित की जाएगी।