देश

 छोटे शहरों में कोरोना के नए मामलों के विस्फोट से बढ़ा डर 

 नई दिल्ली 
भारत में कोरोना का प्रकोप एक बार फिर बढ़ता दिखाई दे रहा है। अचानक कोरोना मामलों में उछाल देखने को मिल रहा है, लोग मास्क नहीं रहे हैं, सामाजिक दूरी का ध्यान नहीं रख रहे हैं, कोरोना गाइडलाइन्स का उल्लंघन किया जा रहा है। इन्हीं सब कारणों की वजह से लोगों में वायरस फैल रहा है। 
ग्युटो बौद्ध मठ में 150 से अधिक भिक्ष कोरोना पॉजीटिव पाए गए हैं जिसके बाद मठ को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। पहले, केवल 20 मामलों का पता चला था, फिर पिछले आठ दिनों में, 54 से अधिक लोग वायरस से संक्रमित पाए गए। यह पता चला है कि संक्रमण 14 फरवरी को नए साल के अवसर पर मठ में हुई एक सभा से शुरू हुआ था।
 
हरियाणा के करनाल में एक आर्मी स्कूल के लगभग 54 छात्र कोरोना पॉजीटिव पाए गए हैं, जिसके बाद कक्षाओं को निलंबित कर दिया गया है। स्कूल भवन और छात्रावासों को एक कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। महाराष्ट्र के वाशिम में एक पब्लिक स्कूल के छात्रावास के कुल 229 छात्रों ने पिछले सप्ताह कोरोना के लिए सकारात्मक परीक्षण किया।  स्कूल धीरे-धीरे सितंबर 2020 से शुरू हो रहे हैं। आवासीय स्कूलों ने भी पिछले कुछ महीनों में चरणबद्ध तरीके से छात्रावासों को फिर से खोला है। कोरोना गाइडलाइन्स का पालन न करना कोरोना के आऩे वाले मामलों का एक बड़ा कारण है।