देश

कोरोना: ई-स्नान के लिए हजारों लोगों को मिला पवित्र जल

सागर द्वीप (पश्चिम बंगाल)
कोरोना महामारी के चलते गंगासागर मेले में भीड़ से बचने के लिए पश्चिम बंगाल सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से ई-स्नान प्रबंध किया गया। इसके तहत अबतक देशभर के कम से कम 54,000 लोगों ने बगाल की खाड़ी में गंगा के संगम वाले स्थल का पवित्र जल हासिल किया है। ऐसा कर लोग जहां महामारी के दौर में मेले में आने से बचे हैं, वहीं घर पर पवित्र स्नान की सुविधा मिली है। राज्य के पंचायत मंत्री सुब्रत मुखर्जी ने कहा कि ई-स्नान सुविधा को बढ़ावा देने के लिए सरकार देश के किसी भी हिस्से में रह रहे व्यक्ति को 150 रुपये के मामूली शुल्क पर पवित्र जल एवं प्रसाद भेज रही है। उन्होंने कहा कि अबतक देश के अलग-अलग हिस्सों में 54000 लोगों ने अपने घरों पर ही गंगा के बगाल की खाड़ी के संगम स्थल का पवित्र जल प्राप्त किया है।

हर साल देशभर से लाखों श्रद्धालु मकर संक्राति के मौके पर पवित्र डुबकी लगाने के लिए सागर द्वीप पहुंचते हैं जो कोलकाता से करीब 130 किलोमीटर दूर है। श्रद्धालु गंगासागर मेले के दौरान कपिल मुनि के मंदिर प्रार्थना भी करते हैं। यह मेला कुंभ मेले के बाद दूसरा सबसे बड़ा समागम माना जाता है। कैलेंडर के अनुसार इस साल 14 जनवरी को प्रात: छह बजकर दो मिनट से लेकर अगले 24 घंटे तक पवित्र डुबकी लगाने का समय तय किया गया है। मंत्री ने कहा कि इस साल 12 जनवरी तक दो लाख श्रद्धालु पहुंच चुके हैं जिनमें से पांच कोविड-19 से संक्रमित पाए गए। मुखर्जी ने कहा कि राज्य सरकार ने यह सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त इंतजाम किया है कि तीर्थयात्री कोविड नियमों का पालन करें और पवित्र डुबकी और कपिल मुनि मंदिर में प्रार्थना के उपरांत सुरक्षित लौटें।
 

Related Articles

Close