खेल

भारतीय खिलाड़ियों की परेशानी पर BCCI सख्त

नई दिल्ली
ब्रिसबेन में सीरीज के चौथे टेस्ट मैच के लिए पहुंची भारतीय टीम के सदस्यों को ऑस्ट्रेलिया परेशान करने से बाज नहीं आ रहा है। ऐसी मीडिया रिपोर्ट आई हैं कि भारतीय दल को मूलभूत सुविधाएं तक नहीं दी जा रही हैं। इतना ही नहीं, उन्हें खुद टॉयलेट साफ करना पड़ रहा है और खाना भी बाहर के एक भारतीय रेस्तरां से मंगाया जा रहा है। इस बीच भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने दोहराया है कि खिलाड़ियों के हितों की रक्षा करना सबसे अहम है। भारतीय बोर्ड यह सुनिश्चित करने के लिए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (CA) के संपर्क में है। गाबा में 15 जनवरी से ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच चौथा और अंतिम टेस्ट मैच खेला जाना है। ऐसी रिपोर्ट्स सामने आई हैं कि ब्रिसबेन के जिस होटल में भारतीय टीम ठहरी है, वहां जिन सुविधाओं का वादा किया गया था और जो मिल रही हैं, वह 'बिल्कुल उलट' हैं। होटल में कोई अन्य मेहमान ना होने के बावजूद खिलाड़ियों को अपने फ्लोर से बाहर जाने की अनुमति नहीं है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय दल के सदस्यों के लिए हाउसकीपिंग तक की सुविधा नहीं है और वे खुद के बिस्तर लगाते हैं, टॉयलेट की सफाई करते हैं जबकि ब्रिसबेन में एक नजदीकी भारतीय रेस्तरां से खाना मंगाया जाता है। इतना ही नहीं, टीम इंडिया के लिए जिम और स्विमिंग पूल का इस्तेमाल पर प्रतिबंध है। सिडनी टेस्ट के बाद भारतीय टीम में चोटिल खिलाड़ियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए यह काफी बुरा अनुभव है क्योंकि सिडनी टेस्ट के बाद रिकवरी पर काम करने की बहुत कम सुविधाएं खिलाड़ियों को मिल रही हैं। टीम इंडिया के कैप्टन और स्टार बल्लेबाज विराट कोहली पापा बन गए हैं और उनकी पत्नी बॉलिवुड ऐक्ट्रेस अनुष्का शर्मा ने सोमवार को एक बेटी को जन्म दिया। विराट ने यह जानकारी सोशल मीडिया पर पोस्ट की।

एक फोटो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ जिसमें नजर आ रहे एक नवजात कै पैरों से विराट-अनुष्का की बेटी को जोड़ा गया। हालांकि अब उस फोटो को फेक बताया गया है। विराट कोहली के बड़े भाई विकास ने ही बताया है कि जो फोटो वायरल हुआ, वह विराट-अनुष्का की बेटी का नहीं था। बीसीसीआई ने इस पर ध्यान दिया है और चिंता जाहिर की है। बोर्ड ने साफ तौर पर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को कहा है कि खिलाड़ियों के दौरे को सहज बनाने की जरूरत है। भारतीय टीम नवंबर के शुरू में ऑस्ट्रेलिया पहुंची थी और करीब 2 महीने से बायो-सिक्योर प्रोटोकॉल में रह रही है। जानकारी के मुताबिक, बीसीसीआई अध्यक्ष सौरभ गांगुली और सचिव जय शाह दोनों सीए अधिकारियों के संपर्क में हैं और उन्हें आश्वासन दिया गया है कि खिलाड़ियों को ब्रिसबेन में सहज बनाने के लिए तुरंत प्रभाव से कदम उठाए जाएंगे।

बीसीसीआई टीम इंडिया की कप्तानी संभाल रहे अजिंक्य रहाणे और हेड कोच रवि शास्त्री के साथ भी संपर्क में है और जितनी जल्दी हो सके, बोर्ड इस तरह की तमाम परेशानियों को निपटाने के लिए काम कर रहा है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के चौथे और आखिरी टेस्ट के लिए टीम इंडिया मंगलवार को ब्रिसबेन पहुंची। ऐसी अटकलें लगाई जा रही थीं कि भारतीय टीम कोविड-19 प्रतिबंधों के कारण ब्रिसबेन की यात्रा करने के लिए उत्सुक नहीं थी लेकिन बाद में सीए के निक हॉकले ने अफवाहों को खारिज कर दिया और दोहराया कि भारतीय खिलाड़ी क्वींसलैंड जाएंगे।

Related Articles

Close