इंदौर

उज्जैन में अगले माह संघ के सर कार्यवाह भैयाजी जोशी समेत अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों का होगा जमावड़ा

उज्जैन
राम मंदिर निर्माण शुरू होने के बाद अब संघ के कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को मंदिर निर्माण संघर्ष की गाथा सुनाएंगे। इसको लेकर संघ और विश्व हिन्दू परिषद के पदाधिकारियों की बड़ी बैठक अगले माह उज्जैन में होगी। बाबा महाकाल की नगरी उज्जैन में लिए गए फैसलों के बाद इसके लिए संघ और विहिप के पदाधिकारी संयुक्त टीम को जनता के बीच जाने की सहमति देंगे। इसके साथ ही संघ और विश्व हिन्दू परिषद द्वारा शुरू किए जाने वाले राम मंदिर निर्माण के लिए जनसहयोग मांगने के अभियान की रूपरेखा को भी अंतिम रूप दिया जाएगा।

5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन होने के बाद विश्व हिन्दू परिषद और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने मंदिर निर्माण के लिए जन सहयोग लेने का फैसला किया है। इसको लेकर संघ प्रमुख की मौजूदगी में पिछले दिनों भोपाल में हुई बैठक के बाद टीम के गठन की कवायद शुरू हो गई है जिसमें हर जिले में विहिप और संघ पदाधिकारियों को शामिल करने का फैसला लिया गया था। संघ और विहिप दोनों ही इस पर काम कर रहे हैं। अगले माह दिसम्बर में होने वाली बैठक में इसी पर चर्चा के लिए संघ के सर कार्यवाह भैय्याजी जोशी समेत संघ के मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़ के पदाधिकारी तथा विश्व हिन्दू परिषद की केंद्रीय कार्यकारिणी के पदाधिकारी और मध्यप्रदेश के पदाधिकारी मौजूद रहेंगे।

सूत्रों के अनुसार संघ और विहिप के तीन से चार पदाधिकारियों की संयुक्त टीम लोगों से जनसहयोग में राशि लेने के साथ घर-घर जाकर यह बताने का काम भी करेगी कि राम मंदिर निर्माण के लिए पांच सौ सालों में कितना संघर्ष हिन्दुओं को करना पड़ा है।

संघ और विहिप द्वारा जनसहयोग राशि संग्रहण के लिए जो तैयारी की गई है उसके मुताबिक यह अभियान 15 जनवरी से 27 फरवरी तक चलेगा। मकर संक्रांति से माघी पूर्णिमा के बीच इस अभियान पर विशेष तौर पर फोकस कर घर-घर जाकर संवाद करने और जनसहयोग के लिए राशि जुटाने का काम किया जाएगा। विहिप और संघ की संयुक्त टीम इसलिए बनाई जा रही है ताकि लोगों द्वारा दी जाने वाली राशि का एक-एक रुपए का हिसाब रखा जा सके।

Related Articles

Close