व्यापार

दूसरी तिमाही में 7.5% रही गिरावट, अनुमान से बेहतर रहे GDP के आंकड़े 

 नई दिल्ली  
कोरोना संकट के बीच देश की अर्थव्यवस्था में चालू वित्त वर्ष 2020-21 की दूसरी तिमाही जुलाई-सितंबर में 7.5 प्रतिशत की गिरावट आयी है। कोरोना वायरस महामारी और उसकी रोकथाम के लिये लगाये गये लॉकडाउन के कारण पहली तिमाही अप्रैल-जून में अर्थव्यवस्था में 23.9 फीसदी की बड़ी गिरावट दर्ज की गई थी।जीडीपी के यह आकंड़े उम्मीद से बेहतर है क्योंकि आरबीआई और रेटिंग एजेंसी ने इससे ज्यादा यानी करीब 8.6 फीसदी गिरावट का अनुमान लगाया था। हालांकि,  तकनीकी तौर पर देश आर्थिक मंदी में फंस चुका है, क्योंकि सितंबर तिमाही में लगातार दूसरी बार जीडीपी में गिरावट दर्ज की गई है। 

बीते साल जुलाई-सितंबर में इतनी थी जीडीपी दर
राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) के जारी आंकड़ो के अनुसार इससे पूर्व वित्त वर्ष 2019-20 की इसी तिमाही में जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) में 4.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। कोरोना वायरस महामारी और उसकी रोकथाम के लिये लगाये गये लॉकडाउन के कारण चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही अप्रैल-जून में अर्थव्यवस्था में 23.9 प्रतिशत की बड़ी गिरावट आयी थी। अब

चीन में जीडीपी ग्रोथ में हुआ सुधार
उल्लेखनीय है कि चीन की आर्थिक वृद्धि दर जुलाई-सितंबर तिमाही में 4.9 प्रतिशत रही जबकि अप्रैल-जून तिमाही में इसमें 3.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। तात्कालिक पूर्वानुमान विधि का प्रयोग करते हुए केंद्रीय बैंक के शोधकर्ताओं ने अनुमान लगाया है कि जुलाई-सितंबर तिमाही में जीडीपी का आकार 8.6 फीसद तक घट जाएगा। इससे पहले आरबीआई ने चालू वित्त वर्ष में जीडीपी में 9.5 फीसद की गिरावट का अनुमान लगाया था। आरबीआई के शोधकर्ता एवं मौद्रिक नीति विभाग के पंकज कुमार की ओर से तैयार रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत तकनीक रूप से 2020-21 की पहली छमाही में अपने इतिहास में पहली बार आर्थिक मंदी में फंस गया है।

किसने कितना लगाया था अनुमान
अर्थव्यवस्था में मंदी को सबसे सरल शब्दों में कहा जाए तो किसी भी अर्थव्यवस्था में मंदी का एक चरण एक विस्तारवादी चरण के बराबर है। दूसरे शब्दों में, जब वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन, जिसे आम तौर पर जीडीपी द्वारा मापा जाता है, एक तिमाही (या महीने) से दूसरे में चली जाती है, तो इसे अर्थव्यवस्था का एक विस्तारवादी चरण कहा जाता है। जब जीडीपी एक तिमाही से दूसरी तिमाही में कम हो जाती है, तो अर्थव्यवस्था को मंदी के दौर में कहा जाता है।

कब कही जाती है मंदी
वहीं जब अर्थव्यवस्था की गति लंबे दौर के लिए धीमी होती है तो इसे मंदी कहा जाता है। यानी, जब जीडीपी एक लंबी और पर्याप्त अवधि के लिए कम होती है तो मंदी कहलाती है। वैसे मंदी की कोई स्वीकार्य परिभाषा नहीं है, लेकिन ज्यादातर अर्थशास्त्री इसी परिभाषा से सहमत हैं, जिसे अमेरिका में नेशनल ब्यूरो ऑफ इकोनॉमिक रिसर्च भी उपयोग करता है।
 

Tags

Related Articles

Close