छत्तीसगढ़बिलासपुर

उठे एक एक दाना, कम ना पड़े बारदाना किसानों को एकमुश्त समर्थन मूल्य दिलाना धन सत्याग्रह का मूल उद्धेश्य

बिलासपुर
धान खरीदी में गत वर्ष राज्य सरकार द्वारा की गई गलतियों की पुनरावृत्ती न हो इस उद्धेश्य से जनता कांग्रेस ने बिलासपुर में लोकसभा स्तर पर बैठक का आयोजन किया जिसमें पार्टी के अध्यक्ष सहित वरिष्ठ नेता उपस्थित थे। बैठक में धन सत्याग्रह के तीन उद्धेश्य उठे एक एक दाना, कम ना पड़े बारदाना किसानों को एकमुश्त समर्थन मूल्य दिलाना के मूल मंत्र पर नेताओं की सहमति बनी और इसी आधार पर राज्य सरकार को घेरने की योजना तैयार की गई।
बैठक में जनता कांग्रेस के तमाम वरिष्ठ नेता जिनमें नवनियुक्त राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ श्रीमती रेणु जोगी विधायक दल के नेता एवं लोरमी विधायक धर्मजीत सिंह पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी के साथ ही पार्टी की कोर कमेटी एवं बिलासपुर लोकसभा के समस्त वरिष्ठ जोगी कांग्रेसी आज धान सत्याग्रह पर मरवाही सदन में बैठे जिसमें सरकार की नीतियों की आलोचना के साथ-साथ किसानों के हक की लड़ाई लडऩे विधानसभा वार निगरानी समिति का भी गठन किया गया। साथ की कई महत्वपुर्ण प्रस्तावों पर भी चर्चा की गई।

धान सत्याग्रह के उद्देश्य को लेकर पार्टी अध्यक्ष अमित जोगी ने कहा की इस धान सत्याग्रह के तीन प्रमुख उद्देश्य है उठे धान का एक-एक दाना, कम ना पड़े एक भी बार दाना और किसानों को 2500 रुपए का समर्थन मूल्य एक मुश्त दिलाना।। 2019 में हमने देखा है भूपेश सरकार ने किसानों को धान खरीदी के नाम पर सिर्फ आंसू दिए हैं जिस किसान को त्यौहार के वक्त शादियों के वक्त उनके धान का उचित मूल्य देने के लिए स्वर्गीय अजीत जोगी ने धान खरीदी की प्रक्रिया का शुभारंभ किया था उसके बिल्कुल विपरीत 2019 से भूपेश सरकार ने किसानों को ठगने का काम शुरू किया है जहां राज्य के गठन दिवस पर 1 नवंबर से धान खरीदी की जाना पिछले 18 सालों से चली आ रही है वहीं 2019 में धान खरीदी की शुरूवात को 1 माह बढा दिया गया।

उन्होंने कहा कि धान खरीदी 2020 में इस करोना काल जैसे भयावह महामारी के काल में किसानों के लिए एक संजीवनी का काम करेगी किंतु अगर इस सरकार की पिछले साल की नीति को देखा जाए तो किसानों के लिए यह करोना काल में आफत काल का रूप लेता हुआ दिखाई दे रहा है इसलिए हमारी मांग है कि हमारे किसानों को उनके हक का पूरा 2500 रुपए एकमुश्त दिया जाए। जिस हिसाब से 2019 में टोकन सिस्टम लगा कर किसानों को परेशान किया गया, जिस हिसाब से 2019 में किसानों को उन्हीं का धान बेचने से रोका गया, उन पर जुर्म दर्ज किए गए, उनकी गाडिय़ां जब्ती की गई, जिस प्रकार धान खरीदी केंद्रों में कभी लिंक फेल कभी मशीन खराब कभी कांटा खराब जैसे तमाम हथकंडे अपनाते हुए खरीदी से सरकार द्वारा बेचा गया और जिस प्रकार भूपेश सरकार और केंद्र सरकार की लड़ाई में पिछली पूरी धान खरीदी हुई उन सभी से बचाने जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जोगी ने किसानों के बचाव के लिए निगरानी समिति बनाने का फैसला लिया है और हम इस धान सत्याग्रह के माध्यम से साफ कर देना चाहते हैं की छत्तीसगढ़ में इस वक्त किसान की जरूरत है एक हाथ धान लो और एक हाथ पैसा दो।

डॉ रेणु जोगी ने सरकार पर बड़ा प्रहार करते हुए कहा की जिस प्रकार दूध का जला छाछ को भी फूंक फूंक कर पीता है उसी प्रकार हम भी 2019 के सरकार की नीतियों को देखकर उससे हमारे किसानों को बचाने धान खरीदी के पूर्व ही अपनी निगरानी समितियों को किसानो की हक की लड़ाई लडऩे के लिए आदेशित कर रहे हैं। इस सरकार ने भी यह साबित कर दिया है कि वह किसी भी कीमत पर पूरा धान खरीदने में आनाकानी करेगी । 2500 रुपए का समर्थन मूल्य जो इनके घोषणा पत्र का हिस्सा है उसे देने में भी आनाकानी करेगी और इन सभी का दुष्प्रभाव छत्तीसगढ़ के किसानों को झेलना पड़ेगा इसलिए जिस सपने को लेकर स्वर्गीय जोगी जी ने धान खरीदी की शुरूआत छत्तीसगढ़ मे की थी। उस उद्देश्य के पालन के लिए जनता कांग्रेस की पूरी पार्टी किसानों के लिए धान खरीदी के पूरे काल में किसानों के साथ उनके हक के लिए खड़ी रहेगी।

लोरमी विधायक एवं पार्टी के विधायक दल के नेता धर्मजीत सिंह ने मंच से किसानों की पीड़ा को इंगित किया और कहा गांव में बसे लोग ही हमारी आत्मा है उनको हो रही असुविधाओं के विरुद्ध सारी अव्यवस्थाओं की ओर सरकार का ध्यान आकृष्ट कराने सभी कलेक्टरों को ज्ञापन दिया जाएगा। धर्मजीत सिंह ने कार्यकतार्ओं को गांव का दौरा करने एवं किसानों की तकलिफों को जानने के लिए मंच से आदेशित किया। धान खरीदी के पुर्व किसानो के हक की लड़ाई लड्ने के उद्देश्य से धान सत्याग्रह में जोगी कांग्रेस 5 प्रस्तावों को सर्वसम्मति से पारित किया।

Related Articles

Close