इंदौर

मास्क न पहनने पर धड़पकड़, कोई रोया-गिड़गिड़ाया, किसी को गोद में उठा लायी पुलिस

उज्जैन
उज्जैन में मास्क न पहनने वालों के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गयी है. जैसे ही पुलिस ने बिना मास्क पहने युवकों की धड़पकड़ शुरू की वो रोने गिड़गिड़ाने लगे. कुछ युवक शांति से पुलिस की गाड़ी में बैठ गए और एक को तो पुलिस जवान गोद में उठाकर ले आए.

उज्जैन में मास्क न पहने वालों पर पुलिस-प्रशासन की सख्ती के वीडियो वायरल होने लगे हैं. यहां जो भी बिना मास्क पहने घूमता दिख रहा है पुलिस उसे पकड़ कर 10 घंटे के लिए जेल भेज रही है. जिला प्रशासन, नगर निगम और उज्जैन पुलिस की जॉइंट टीम इस कार्रवाई को अंजाम दे रही है. इसका केवल एक ही मकसद है कि लापवाह लोगों से किसी और को खतरा पैदा ना हो. कोरोना के प्रति लापरवाह लोग खुद भी जागरूक हों और कोरोना संकट से जल्द मुक्ति मिले.

उज्जैन पुलिस ने कोयला फाटक पर चैकिंग अभियान शुरू किया. देखते ही देखते ऐसे दर्जनों लोग वहां से गुजरे जो मास्क नहीं पहने थे. पुलिस ने फौरन धड़पकड़ शुरू कर दी. उसी कार्रवाई का एक वीडियो वायरल हो रहा है. उसमें मास्क नहीं पहने युवक को जैसे ही पुलिस पकड़ कर गाड़ी में बैठाने लगी. युवक गिड़गि़ड़ाने लगा. वो जेल जाने के डर से गाड़ी में बैठने के लिए तैयार ही नहीं था. पुलिस उसे खींच रही थी और वो अकड़ा हुआ था. युवक पुलिस के पैरों में गिर कर माफी मांगने लगा. काफी समझाने पर बड़ी मुश्किल से वो पुलिस वैन में बैठा. एक युवक को तो पुलिस वाले गोद में उठाकर ले आए.

उज्जैन के एडिशनल एसपी अमरेंद्र सिंह ने कहा-कोरोना संक्रमण रोकने के लि उज्जैन पुलिस ने नगर निगम और प्रशासन के साथ मिलकर एक संयुक्त अभियान छेड़ा है. इसमें पूरे थाना क्षेत्रों में अलग-अलग जगह पर सब टीमें लगाई गई हैं. साथ में मजिस्ट्रेट के आदेश से अस्थाई जेल का निर्माण किया गया है. ऐसे लोग जो इस पूरे अभियान के दौरान पब्लिक प्लेस या रोड पर बिना मास्क लगाए घूम रहे हैं उन पर जुर्माना और 10 घंटे के लिए अस्थाई जेल में रखा जा रहा है. वहां उन को शपथ दिलाई जाती है. उनकी टेंपरेचर स्क्रीनिंग कराई जाती है ताकि कोरोना संक्रमण रोका जा सके.

मास्क न पहनने वालों को 10 घंटे की खुली जेल भेजकर उनसे 100 रुपये जुर्माना लिया जा रहा है. साथ ही जेल जाने वाले लापरवाहों को मास्क पहनने और आगे ऐसी गलती ना करने के लिए शपथ भी दिलाई जा रही है.

Related Articles

Close