भोपाल

वर्चुअल काऊ कैबिनेट में नीतिगत सहमति, 400 करोड़ से ज्यादा का हो सकता है काऊ बजट

भोपाल
मध्यप्रदेश सरकार गौ वंश संवर्धन और संरक्षण के लिए गंभीरता से काम करेगी। राज्य सरकार इसके लिए  बजट बढ़ाकर चार सौ करोड़ तक करेगी।  इसकी घोषणा  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज शाम को सालरिया गौअभ्यारण्य में विशेषज्ञों से चर्चा के बाद कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश और पर्यावरण संरक्षण के लिए गौ संरक्षण जरूरी है। गौ संवर्धन संरक्षण की मंत्रिपरिषद की आॅनलाईन  बैठक में वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गौ कैबिनेट के सभी सदस्यों को पहले गोपाष्टमी की बधाई दी। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए भी गौधन जरूरी है। मध्यप्रदेश में  स्वावलंबन के लिए गौ माता एजेंडे  पर काम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि गौ संरक्षण  हमारी श्रृद्धा है। सिर्फ पशुपालन विभाग नहीं अन्य सभी सहभागी विभाग  जैसे कृषि, पशुपालन, ग्रामीण विकास, गृह आदि भी  गौ संरक्षण और संवर्धन की गतिविधियों में सक्रिय होंगे।

मुख्यमंत्री ने अफसरों को ताकीद किया कि यह चर्चा सिर्फ बैठक के लिए नहीं आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के प्रयासों में गौ धन का उपयोग करेंगे। स्वावलंबन के लिए गौ माता अवधारणा लागू की जाएगी।  गौसंरक्षण से निकायों को भी जोड़ा जाएगा, शहरों में जो निराश्रित गौवंश मिलते हैं, गौशाला बनाकर उनका भी संरक्षण किया जाएगा। इसकी जिम्मेदारी स्वयंसेवी संस्थाओं को सौंपी जाएगी। बैठक में कई सुझाव आए हैं, जिन पर गौअभ्यारण्य में विशेषज्ञों से चर्चा के बाद निर्णय लिया जाएगा। सारलिया अभयारण्य में चर्चा के लिए दर्जन भर से ज्यादा विशेषज्ञों को आमंत्रित किया गया है।

यह बैठक पहले सलारिया में  होनी थी बैठक लेकिन कोविड के कारण बैठक भोपाल में की गई। आॅनलाईन बैठक में प्रदेश में गौवंश की स्थिति पर एक प्रस्तुतिकरण भी किया गया। इसमें बताया गया कि  किस-किस जिले में गौ वंश की क्या स्थिति है।ं  गौ वंश संरक्षण के लिए अलग-अलग स्थानों पर क्या काम हो रहा है यह भी बताया गया।

Tags

Related Articles

Close