भोपाल

सालरिया में शिवराज सरकार की पहली गौ कैबिनेट कल 22 नवंबर को

आगर मालवा
मध्य प्रदेश में आगर मालवा जिले के सालरिया में बना प्रदेश का पहला गौ अभ्यारण्य गायों के लिए श्मशान बन चुका है। यहां आए दिन गायों की मौतें हो रही हैं। एक अखबार में छपी खबर के मुताबिक हाल के दिनों में यहां कम से कम 10 गायों की मौत हुई है, लेकिन आलम यह है कि मृत गायों को उठाने वाला तक कोई नहीं है। ये हालत तब है जबकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एक दिन बाद यानी रविवार को यहीं पर गौ कैबिनेट की पहली बैठक करने वाले हैं।

चार दिन पहले शिवराज सरकार ने काफी तामझाम के साथ गौ कैबिनेट के गठन का ऐलान किया था, लेकिन सुसनेर के पास बने इस गौ अभ्यारण्य की बदहाली पर किसी का ध्यान नहीं है। यहां के मजदूरों का कहना है किअभ्यारण्य में रोजाना 20 से ज्यादा गायें मरती हैं, लेकिन उनकी देखरेख तो दूर, खाने-पीने तक की समुचित व्यवस्था नहीं है।

38 करोड़ की लागत से बने अभ्यारण्य में करीब 3950 गायें रहती हैं। इन्हें खिलाए जाने वाले भूसे को रखने के लिए 10 शेड बनाए गए हैं, लेकिन इनमें से करीब आधी खाली हैं। जिन शेड में भूसा रखा है, वो भी गंदगी से भरे हैं।

दो साल पहले भी अभ्यारण्य में गायों की मौत पर खूब हंगामा हुआ था। एक के बाद लगातार हुई मौतों को लेकर विपक्षी पार्टियों ने सरकार को जमकर घेरा था। उस समय भी सरकार ने इसकी हालत में सुधार के तमाम वादे किए थे, लेकिन मामला ठंडा पड़ते ही सभी योजनाएं धरी की धरी रह गईं।

प्रदेश के इस पहले अभ्यारण्य को लेकर प्रदेश सरकार ने बड़ी-बड़ी योजनाएं बनाई थीं। यहां गोमूत्र से दवाइयां बनाने की प्लानिंग थी। गोबर से गैस बनाने के साथ कई प्रयोगों की शुरुआत होनी थी, लेकिन यहां की हालत देखकर गौ कल्याण के सरकारी दावों की पोल खुल रही है।

Tags

Related Articles

Close