भोपाल

गौ संरक्षण और संवर्धन के लिए बनी मंत्रिपरिषद समिति, मुख्यमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेसिंग कल

भोपाल
मध्यप्रदेश में गौ संवर्धन और गौ संरक्षण के लिए अतिरिक्त राजस्व जुटाने और पशुपालन से होने वाली आय को बढ़ाने के लिए  पशुपालन, कृषि, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, वन, गृह, और राजस्व सहित छह विभागों के मंत्री अफसर मिलकर रणनीति तय करेंगे। इसके लिए चरणबद्ध योजना का खाका भी तैयार किया जाएगा। मुख्यमंत्री समेत सभी मंत्री और अफसर इसके लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आॅनलाइन जुटेंगे।
प्रदेश में गौ-संवर्धन और संरक्षण के लिए मध्यप्रदेश सरकार पंजाब, हरियाणा और राजस्थान की तर्ज पर सेस लगाने की तैयारी में है। रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए होने जा रही गौ-कैबिनेट मे इसको लेकर निर्णय लिया जा सकता है। इसके अलावा पशुपालन बढ़ाने और इससे होंने वाली आय बढ़ाने के मुद्दे पर भी गौ-कैबिनेट में चर्चा की जाएगी।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कल गौ संरक्षण और संवर्धन के लिए बनी मंत्रिपरिषद समिति के सदस्यों से कल सुबह 11 बजे से वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए चर्चा करेंगे। इसमें पशुपालन, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, गृह और वन विभाग के मंत्री और अधिकारी शामिल होंगे। गौ-कैबिनेट में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, वन मंत्री विजय शाह, कृषि मंत्री कमल पटेल, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया, पशुपालन मंत्री प्रेम सिंह पटेल शामिल होंगे।

इन सभी विभागों के एसीएस, प्रमुख सचिव और अन्य अधिकारी भी गौ-कैबिनेट में शामिल होंगे। पशुपालन मंत्री प्रेमसिंह पटेल आगर मालवा से इस बैठक में आॅनलाइन शामिल होंगे। बाकी मंत्री भी वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए इी इस बैठक में शामिल होंगे।

पशुपालन के लिए प्रशिक्षण
प्रदेश में पशुपालन को लाभ का धंधा बनाने के लिए पशुपालन के उन्नत तरीके बताने के लिए युवाओं को प्रशिक्षण दिए जाने पर भी चर्चा की जाएगी। पशुपालन के लिए आधुनिंक संयंत्र लगाते हुए  गौ उत्पाद, दूध, गोबर और गौमूत्र से बनने वाले उत्पादों की बिक्री के जरिए अतिरिक्त आय बढ़ाने के उपायों पर भी चर्चा की जाएगी। इसके अलावा पशुओं के इलाज, उनके हरे चारे और अन्य व्यवस्थाओं के लिए भी चर्चा की जाएगी।

Tags

Related Articles

Close