विदेश

अमेरिकी चुनाव की लड़ाई अब भी जारी, नतीजों को मानने के लिए तैयार नहीं ट्रंप, कई राज्यों में लड़ रहे हैं कानूनी लड़ाई

अमेरिका
अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे साफ हो गए हैं और डेमोक्रेट्स पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन अब अगले राष्ट्रपति बनने जा रहे हैं. जो बाइडेन और कमला हैरिस ने अपनी जीत का जश्न मनाना भी शुरू कर दिया है लेकिन दूसरी ओर मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप हार मानने को तैयार नहीं हैं. लंबे वक्त से डोनाल्ड ट्रंप आरोप लगा रहे हैं कि इस चुनाव में धांधली हो सकती है, ऐसे में अभी भी वो इस लड़ाई को कानूनी तौर पर आगे बढ़ाना चाहते हैं और जबतक अदालत से अंतिम फैसला नहीं आता है कुर्सी छोड़ने को तैयार नहीं हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की टीम की ओर से अभी अलग-अलग राज्यों में वोटों की गिनती को लेकर अदालत का रुख किया गया है. जिसमें कुछ जगह दोबारा गिनती की अपील की गई है, जबकि कुछ जगह डेमोक्रेट्स पर आरोप लगाया गया है.

अभी तक टीम ट्रंप की ओर से जॉर्जिया, मिशिगन, नेवादा, पेंसिलवेनिया में लॉ सूट दायर किया गया है. इनमें से जॉर्जिया, मिशिगन और नेवादा में टीम ट्रंप को कामयाबी नहीं मिली थी, जबकि पेंसिलवेनिया में अदालत ने रिपब्लिकन के पक्ष में फैसला सुनाते हुए उनके ऑब्जर्वर को काउंटिंग रूम में जाने की इजाजत दी थी. इसके अलावा जिन राज्यों में करीबी मामला है वहां पर भी कानूनी लड़ाई लड़ने की तैयारी है.रिपब्लिकन पार्टी की ओर से करीब 60 मिलियन डॉलर का फंड रेज किया जा रहा है, ताकि इस कानूनी लड़ाई को लड़ा जा सके. टीम ट्रंप का कहना है कि हमारा मकसद है कि हर लीगल वोट को गिना जाना चाहिए और जबतक आखिरी वोट ना गिना जाए किसी नतीजे पर विश्वास नहीं करना चाहिए. 

नतीजों पर क्या रहा है डोनाल्ड ट्रंप का रुख?
डोनाल्ड ट्रंप ने नतीजों के बाद अपने आधिकारिक बयान में कहा है कि चुनाव अभी खत्म नहीं हुआ है. जो बाइडेन ने किसी भी राज्य में औपचारिक तौर पर जीत हासिल नहीं की है, कई राज्यों मं दोबारा गिनती हो रही है और कुछ राज्यों में कानूनी लड़ाई आगे बढ़ रही है. अमेरिकी मीडिया के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप और उनके दोनों बेटे चुनावी लड़ाई को अदालत तक ले जाना चाहते हैं. जबकि मेलानिया ट्रंप और जेरेड कुशनर (डोनाल्ड ट्रंप के दामाद) ने उन्हें नतीजे स्वीकार करने की सलाह दी है. ट्रंप के कुछ सलाहकारों का मानना है कि अगर अभी नतीजों को सही तरीके से नहीं स्वीकारा गया, तो फिर अगर 2024 में वो फिर चुनाव लड़ने की कोशिश करते हैं या फिर ट्रंप फैमिली से कोई और मैदान में आता है तो काफी मुश्किल हो सकती है. 

आपको बता दें कि अमेरिका में राष्ट्रपति बनने के लिए कुल 270 इलेक्टोरल वोट की जरूरत है. अमेरिकी मीडिया के मुताबिक, जो बाइडेन ने करीब 290 वोट और डोनाल्ड ट्रंप ने 214 वोट पाए हैं, कुछ राज्यों में अभी भी गिनती जारी है. यही कारण है कि जो बाइडेन और कमला हैरिस को विजेता घोषित कर दिया गया. दोनों को दुनियाभर से बधाई मिलना भी शुरू हो गया है. 

Tags

Related Articles

Close