भोपाल

कोरोना काल के चलते पढ़ाई प्रभावित, पाठ्यक्रम व परीक्षा से संबंधित ब्लूप्रिंट अब तक जारी नहीं

भोपाल
कोरोना के चलते इस बार स्कूलों में नया शैक्षणिक सत्र शुरू नहीं हुआ, जिससे छात्रों की पढ़ाई प्रभावित है, वहीं उपचुनाव का असर भी बच्चों की शिक्षा पर पड़ता नजर आ रहा है। क्योंकि माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा हाईस्कूल व हायर सेकेंडरी के छात्रों की सुविधा के लिए पाठ्यक्रम व परीक्षा से संबंधित ब्लूप्रिंट अब तक जारी नहीं किए गए। ऐसे में निजी प्रकाशक परीक्षाओं की तैयारी के लिए पाठ्यक्रम सामग्री तैयार नहीं कर पा रहे हैं और न ही अब तक बाजार में सैंपल पेपर उपलब्ध हैं। जबकि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) द्वारा छात्रों के हित में आगामी परीक्षा के लिए सैंपल पेपर भी जारी किए जा चुके हैं।

छात्रों का कहना है कि माशिमं के बाजार में पाठ्यक्रम आधारित शैक्षणिक सामग्री व सैंपल पेपर नहीं मिलने से उन्हें आगामी परीक्षा की तैयारी करने में कठिनाई हो रही है। क्योंकि इस बार कोरोना के चलते नए शैक्षणिक सत्र में स्कूलों नियमित कक्षाएं भी नहीं लग पाईं, वहीं कोचिंग क्लासेस भी बंद रहीं। आॅनलाइन पढ़ाई वे ही छात्र कर पाए हैं जिनके पास एंड्राइड फोन है अथवा आर्थिक रूप से संपन्न हैं।

स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा हर साल अगस्त-सितंबर माह तक हाईस्कूल एवं हायर सेकेंडरी परीक्षाओं के लिए ब्लूप्रिंट जारी कर दिए जाते थे। लेकिन इस बार कोरोना संकट के कारण अब तक यह प्रक्रिया नहीं हो सकी। विधानसभा उपचुनाव होना भी ब्लूप्रिंट जारी नहीं होने के पीछे एक प्रमुख कारण है। छात्रों का कहना है चार माह से स्कूल बंद हैं तथा कोचिंग क्लासेस भी नहीं लग रहीं। इससे उनकी न केवल पढ़ाई प्रभावित है, बल्कि छात्रों को यह चिंता सता रही है कि अगर पूर्व की भांति बोर्ड परीक्षा मार्च में हुई तो उनके पास सिर्फ चार महीने का समय ही तैयारी के लिए बचा है।

शिक्षा विभाग द्वारा जारी किए जाने वाले ब्लूप्रिंट में परीक्षा में आने वाले प्रश्नपत्र के अंक पाठ्यक्रम आधारित निर्धारित रहते हैं, जिससे छात्रों को यह सुविधा उपलब्ध होती कि पुस्तक के किस पाठ से कितने नंबर के प्रश्न परीक्षा प्रश्न पत्र में शामिल होंगे। इसी प्रकार आॅब्जेक्टिव प्रश्न आदि सामग्री भी ब्लूप्रिंट में शामिल होती है।

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने सरकारी स्कूलों में हाईस्कूल के लिए 5 हजार 500 रुपए फीस निर्धारित की है, वहीं हायर सेकंडरी परीक्षा के लिए छात्र को 10 हजार 500 रुपए जमा कराने होंगे। अगर छात्र किसी कारणवश 26 अक्टूबर से 25 नवंबर तक परीक्षा फॉर्म नहीं भर पाया तो वह 26 नवंबर से 10 दिसंबर तक 2 हजार रुपए विलंब शुल्क जमा कर फॉर्म भर सकता है। इसके बाद 11 दिसंबर से 31 दिसंबर तक 5 हजार रुपए विलंब शुल्क के साथ परीक्षा फार्म भर सकता है। इतना ही नहीं 1 जनवरी से 31 जनवरी 2021 तक 10 हजार रुपए विलंब शुल्क जमा करने सुविधा है।

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने हाईस्कूल व हायरसेकंडरी परीक्षा फॉर्म भरने की तिथि घोषित कर दी है। जिसके मुताबिक 26 अक्टूबर से आॅनलाइन परीक्षा फामज् भरे जाएंगे। आॅनलाइन परीक्षा फॉर्म भरने की अंतिम तिथि 25 नवंबर निर्धारित है। मंडल की परीक्षा के लिए केवल वही छात्र आवेदन कर सकेगा, जिसका स्कूल द्वारा आॅनलाइन नामांकन कराया गया है।

माध्यमिक शिक्षा मंडल के स्तर पर इस बार समय पर ब्लूप्रिंट जारी नहीं हो सके हैं। ब्लूप्रिंट में पिछले साल की तुलना में ज्यादा बदलाव नहीं होता है। इसलिए छात्र पिछले साल के ब्लूप्रिंट के आधार पर ही परीक्षाओं की तैयारी कर सकते हैं। हाईस्कूल व हायरसेकंडरी के परीक्षा फॉर्म 26 से अक्टूबर से आॅनलाइन भरना शुरू होंगे। इस बार दो हजार रुपए से लेकर 10 हजार रुपए विलंब शुल्क के साथ 31 जनवरी तक परीक्षा फॉर्म भरने का प्रावधान है। फॉर्म भरने से पहले छात्रों को आॅनलाइन फीस जमा करानी होगी।

Tags

Related Articles

Close