भोपाल

सीएम शिवराज ने सोनिया गांधी से की कमलनाथ की शिकायत

भोपाल
 मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों के लिए हो रहे उपचुनाव (MP Assembly By-Election) में नेताओं की तीखी बयानबाजी रोज सुर्खियां बन रही हैं. इसी क्रम में कांग्रेस नेता कमलनाथ (Kamalnath) का एक बयान इन दिनों चर्चा में है. ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) की समर्थक विधायक के रूप में चर्चित बीजेपी नेता इमरती देवी (Imarti Devi) के लिए दिए गए इस बयान को बीजेपी ने मुद्दा बना लिया है. बीजेपी (BJP) इसको लेकर आज मध्य प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर कांग्रेस के खिलाफ प्रदर्शन भी कर रही है. वहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने इमरती देवी के समर्थन में मौन धारणा देते हुए कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को पत्र तक लिखा है.

सीएम शिवराज ने सोनिया गांधी को लिखे पत्र में कहा है कि कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश की कैबिनेट मंत्री और अनुसूचित जाति वर्ग की नेता के खिलाफ अशोभनीय टिप्पणी की है. सीएम शिवराज ने सोनिया गांधी से इस मामले पर संज्ञान लेने का आग्रह किया है, साथ ही कमलनाथ के टिप्पणी की निंदा भी की है. शिवराज ने अपने पत्र में कहा है, 'मुझे लगा था कि स्वयं एक महिला होने के नाते आप इस खबर का संज्ञान लेंगी तथा संवैधानिक पद पर आसीन एक दलित महिला के अपमान का प्रतिकार करते हुए अपनी पार्टी के नेता की टिप्पणी की निंदा करते हुए उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगी. लेकिन आपने अब तक ऐसा नहीं किया.'

सीएम शिवराज सिंह चौहान का सोनिया गांधी के नाम पत्र.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से कमलनाथ को कांग्रेस पार्टी में सभी पदों से हटाने का आग्रह भी किया है. उन्होंने पत्र में कहा है कि एक दलित महिला मंत्री के प्रति अभद्र व अशोभनीय टिप्पणी करने तथा उसे जायज ठहराने का बेशर्मी भरा कृत्य करने वाले अपनी पार्टी के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करते हुए उन्हें पार्टी के सभी पदों से हटाते हुए उनकी कड़ी निंदा की कार्रवाई करें. शिवराज ने अपने पत्र में सोनिया गांधी को यह भी कहा है कि अगर इस प्रकरण में उन्होंने मौन धारण किया तो यह मानने के लिए बाध्य होना पड़ेगा कि कमलनाथ की टिप्पणी पर आपकी भी सहमति है.

Tags

Related Articles

Close