विदेश

इजरायली पैसेंजर प्लेन के करीब पहुंचा रूस का सुखोई एसयू-27 लड़ाकू विमान

तेल अवीव
ग्रीस से तेल अवीव जा रहे इजरायल के एक यात्री विमान के बेहद पास एक रूसी फाइटर जेट पहुंच गया। विमान में बैठे यात्री इतनी नजदीक किसी दूसरे देश के फाइटर जेट को देखकर घबरा गए। जिस समय यह घटना हुई उस समय इजरायली यात्री विमान साइप्रस के एयरस्पेस में था। साइप्रस के एयर ट्रैफिक कंट्रोल ने इतने नजदीक रूसी फाइटर प्लेन को देखकर तत्काल चेतावनी जारी की। जिसके बाद से वह लड़ाकू विमान इजरायल के यात्री विमान से दूर हुआ।

साइप्रस के एयरस्पेस में हुई घटना
टाइम्स ऑफ इजरायल की रिपोर्ट के अनुसार, यह घटना रविवार दोपहर की है। उस समय इजरायली यात्री विमान एयरबस A320 ग्रीस के द्वीप रोड्स से तेल अवीव के लिए जा रहा था। तभी खतरनाक ढंग से रूसी सुखोई Su-27 इस यात्री विमान के करीब आ गया। दोनों विमानों ने लगभग एक मिनट तक खतरनाक दूरी पर उड़ान भरी।

क्या है वैश्विक उड़ान नियम
वैश्विक हवाई उड़ान नियमों के अनुसार, किसी भी यात्री विमान के उड़ान के दौरान उसके एक मील के दायरे में कोई भी लड़ाकू विमान नहीं आ सकता है। ऐसा तभी किया जाता है जब कोई आपात स्थिति हो या फिर यात्री विमान ने इसके लिए सहायता मांगी हो। लेकिन, रूस के इस लड़ाकू विमान ने अचानक इजरायली यात्री विमान के पास आकर खतरा पैदा कर दिया।

रूस और इजरायल ने साधी चुप्पी
इस घटना पर न तो इजरायल ने और न हीं रूस के सरकारी अधिकारियों ने कोई टिप्पणी की है। रूस के जंगी जहाज इस समय सीरिया में तैनात हैं। जो आए दिन पड़ोसी देशों की सीमा पार कर दूसरे की एयरस्पेस में घुस जाते हैं। इसी कारण जब भी कोई यात्री विमान इस क्षेत्र से गुजरता है तो उसे इजरायल या तुर्की के फाइटर जेट अपने संरक्षण में लेकर सुरक्षित रूप से बॉर्डर पार कराते हैं।

पहले भी रूसी जेट कर चुके हैं ऐसी हरकतें
रूस के फाइटर जेट पहले भी ऐसी खतरनाक हरकत कर चुके हैं। अगस्त में ही रूसी फाइटर जेट अमेरिका के बी-52 स्ट्रैटजिक बॉम्बर के ठीक सामने से कलाबाजियां करता हुआ निकला था। हालांकि, अमेरिकी पायलट ने तत्परता दिखाते हुए दोनों विमानों की टक्कर को बचाया।

Related Articles

Close