इंदौर

सिंधिया की सभा में किसान की मौत, कांग्रेस ने लगाया असंवेदनशीलता का आरोप

खंडवा
मांधाता विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी की चुनावी सभा में एक 70 साल के किसान की कुर्सी पर बैठे-बैठे मौत हो गई। यहां राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया सभा करने पहुंचे थे। बाद में जब सिंधिया मंच पर आए और घटना का पता चला तो पहले उन्होंने मौन श्रद्धांजलि दी। इसके बाद सभा को संबोधित किया। सिंधिया रविवार दोपहर 1.10 बजे भाजपा प्रत्याशी नारायण पटेल के समर्थन में सभा करने मूंदी पहुंचे थे।

सभा में पहुंचते ही उन्हें वहां मौजूद नेताओं ने बताया कि उंटावद निवासी 70 साल के किसान जीवन सिंह का कुछ देर पहले ही सभास्थल पर निधन हो गया। इस पर सिंधिया ने पहले घटना पर दुख जाहिर किया और दो मिनट का मौन रखा। बताया गया कि सिंधिया के सभा में पहुंचने से करीब 40 मिनट पहले ही किसान की कुर्सी पर बैठे-बैठे मौत हो गई थी। किसान अन्य रिश्तेदारों और परिचितों के साथ सिंधिया को सुनने के लिए गांव से आए थे।

कांग्रेस ने सिंधिया और शिवराज को घेरा है। कांग्रेस ने टÞवीट किया, सिंधिया की सभा मे किसान की मौत। किसान की मौत के बावजूद बीजेपी नेताओं के भाषण जारी रहे। ‘शवराज चरम पर है।‘

सभा में सिंधिया ने कहा- कांग्रेस सरकार में वल्लभ भवन भ्रष्टचार का केंद्र था। वहां दो लोग बोरी लेकर बैठते थे। सुबह खाली बोरी लेकर जाते थे, रात को भरी हुई आती थी।

सिंधिया ने कमलनाथ और दिग्विजय की जोड़ी पर भी निशाने साधे। कहा- एक छोटा भाई और एक बड़ा भाई। क्या जोड़ी है बाबा, ऐसी जोड़ी है 40 साल की कि 2018 के चुनाव में छोटा भाई आगे और बड़ा भाई पर्दे के पीछे था। जब वोट लिया तो मुखौटा बन गए छोटे भाई और बड़े भाई दिग्विजय सिंह के हाथ में रिमोर्ट कंट्रोल था कि किसका ट्रांसफर कहां करना है।

सिंधिया ने कहा- मैंने सोचा था कमलनाथ उद्योगपति हैं तो वे उद्योगों की श्रृंखला लाएंगे। मप्र में उद्योग तो नहीं लाए, लेकिन वल्लभ भवन को उद्योग का केंद्र बना दिया। भ्रष्टाचार का आलम बने मप्र में ट्रांसफर उद्योग, शराब का कारेाबार, अवैध रेत उत्खनन हो रहा था।

उन्होंने कहा- जो भ्रष्टाचार की सरकार बनाएगा मप्र में, उस भ्रष्टचारी व वादाखिलाफी सरकार को धूल चटाने का काम ज्योतिरादित्य सिंधिया करेगा।

Tags

Related Articles

Close