देश

मनी लॉन्ड्रिंग मामला: ईडी की हिरासत में दीपक को भेजा गया

मुंबई 
ICICI बैंक की पूर्व एमडी एवं सीईओ चंदा कोचर के पति दीपक कोचर को 17 अक्टूबर तक के लिए ईडी की हिरासत में भेज दिया गया है. ईडी ने दीपक कोचर को आईसीआईसीआई बैंक-वीडियोकॉन मामले में मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून (पीएमएलए) की धाराओं के तहत सितंबर में गिरफ्तार किया था. 

कोरोना पॉजिटिव पाये गये थे 
दीपक कोचर को मुंबई की एक विशेष अदालत ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मंगलवार को 17 अक्टूबर तक प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में भेज दिया. कोचर को गिरफ्तारी के बाद 19 सितंबर तक ईडी की रिमांड पर भेज दिया गया था, लेकिन उनके कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद इसे टाल दिया गया और उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया. उन्हें अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया. न्यूज के मुताबिक ठीक होने के बाद जांच एजेंसी ने उन्हें विशेष पीएमएलए अदालत के समक्ष फिर पेश किया. ईडी ने चंदा कोचर, दीपक कोचर और वीडियोकॉन समूह के प्रवर्तक वेणुगोपाल धूत एवं अन्य के खिलाफ सीबीआई के प्राथमिकी दर्ज करने के बाद इस मामले की जांच शुरू की थी. 
 
क्या है मामला 
आरोप है कि दीपक कोचर की फर्म न्यूपावर रिन्यूएबल्स में 2010 में 64 करोड़ रुपए वीडियोकॉन ग्रुप और 325 करोड़ मैट्रिक्स फर्टिलाइजर के द्वारा निवेश किया गया था. ये निवेश ICICI बैंक से लोन मिलने के तुरंत बाद किया गया था. आने वाले समय में चंदा कोचर के लिए भी मुश्किल बढ़ सकती है क्योंकि जांच एजेंसी वीडियोकॉन और मैट्रिक्स  के अलावा अन्य कंपनियों को लोन देने की भी जांच कर रही है. जांच एजेंसी उन सभी लोन्स की जांच कर सकती है जो चंदा कोचर ने ICICI बैंक प्रमुख रहते हुए कपनियों को दिए थे. इससे पहले ईडी ने चंदा कोचर से संबंधित संपत्ति भी अटैच की थी.शक के घेरे में वीडियोकॉन लोन केस से संबंधित सभी चीजों को ईडी ने अटैच कर लिया था. इसके अलावा ईडी ने कोचर की करीब 78 करोड़ रुपए की संपत्ति भी अटैच की है. चंदा कोचर और बैंक के अन्य आठ लोगों पर वीडियोकॉन ग्रुप को लोन देने में लापरवाही का आरोपी बनाया गया है. 

Tags

Related Articles

Close