देश

यूपी सरकार ने प्रदेश में 175 हर्बल सड़कों के निर्माण की योजना को क‍िया पूरा

लखनऊ
कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण के बीच उत्‍तर प्रदेश की योगी आद‍ित्‍यनाथ सरकार ने बड़ा काम क‍िया है। यूपी सरकार ने प्रदेश में 175 हर्बल सड़कों के निर्माण की योजना को पूरा किया है। सरकार का दावा है क‍ि इससे उत्तर प्रदेश की हवा में प्रतिरोधक क्षमता होगी। इस योजना के तहत पीपल, नीम, तुलसी, गिलोय, अश्वगंधा, मेंथा, नींबू घास, भृंगराज, मुई, आंवला, ब्राह्मी, तुलसी, अनंतमूल, द्वारपाल, हल्दी और अन्य आयुर्वेदिक और हर्बल पौधों की 30 प्रजातियों के 38,000 से अधिक हर्बल और आयुर्वेदिक पौधे सड़कों के किनारे लगाए गए हैं।

उत्‍तर प्रदेश को हरा भरा बनाने और हवा को शुद्ध बनाने के लिए योगी सरकार स्‍टेट और नेशनल हाइवे के किनारे हर्बल पौधे लगाए हैं। चूंकि यह परियोजना मुख्यमंत्री की प्राथमिकताओं में से एक थी, ऐसे में पीडब्ल्यूडी ने परियोजना को निर्धारित समय के भीतर पूरा कर लिया है। राज्य के 18 मंडलों के जिलों में हर सड़क को हर्बल सड़कों के रूप में विकसित किया गया है।

हर ज‍िले में ऐसी दो सड़कें
जानकारी के मुताब‍िक, हर जिले में न्यूनतम दो ऐसी सड़कें हैं। जहां ये पौधे दवाओं के लिए कच्चा माल प्रदान करेंगे और भूमि के कटाव को रोकने में भी मदद करेंगे। पीडब्ल्यूडी के प्रमुख सचिव नितिन गोकरन ने कहा कि हर्बल पौधे से हमें बीमारियों का मुकाबला करने में मदद म‍िलेगी। वहीं इन हर्बल सड़कों पर यात्रा करने वालों की इम्‍युन‍िटी भी मजबूत होगी। न‍ित‍िन गोकरन ने जोर देकर कहा कि यह योजना दो तरह से विकास में मदद करेगी। क्षेत्र के सौंदर्यीकरण को सुनिश्चित करेगी और जैव विविधता को बढ़ावा देने के साथ औषधीय लाभ लाएगी।

ये सड़कें हर्बल सड़कों में बदलीं
पीडब्ल्यूडी के प्रमुख सचिव ने कहा क‍ि कुछ प्रमुख सड़कें जिन्हें हर्बल सड़कों में बदल दिया गया है, उनमें चंद्रिका देवी-बीकेटी कुम्हारनवा मार्ग, गोरखपुर-देवरिया बाईपास, प्रयागराज-मिर्जापुर रोड, आगरा-अचनेरा रोड, अलीगढ़-सिद्धार्थ रोड, कप्तानगंज-महराजगंज रोड, पंचकोसी मार्ग, अयोध्या, गोंडा-बहराइच मार्ग, झांसी-उन्नाव सड़क और मुरादाबाद-लखनऊ राजमार्ग शामिल हैं।

Related Articles

Close