भोपाल

पोस्टल वोट: वृद्ध, दिव्यांग और कोरोना पॉजीटिव दे सकेंगे वोट

भोपाल
मध्यप्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनावों में इस बार सवा लाख से अधिक अस्सी पार के वृद्ध, दिव्यांग और कोरोना पॉजीटिव मतदाताओं को मतदान केंद्रों पर पहुंचकर मतदान करने की जरूरत नहीं पड़ेगी वे घर बैठे मतदान कर सकेंगे। चुनाव आयोग ने इस बार ऐसे सभी मतदाताओं को डाक मतदान करने की सुविधा प्रदान की है।

मध्यप्रदेश के जिन 28 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव हो रहे है वहां अस्सी वर्ष से अधिक उम्र के कुल 71 हजार 412 मतदाता है। इन क्षेत्रों में दिव्यांग मतदाताओं की संख्या 55 हजार 329 है।  वहीं एनआरआई मतदाताओं की संख्या 12 है। इसमें ग्वालियर में दस और इंदौर में दो मतदाता शामिल है। इन विधानसभा क्षेत्रों में रहने वाले सभी दिव्यांग, अस्सी वर्ष से अधिक उम्र वाले मतदाता और कोविड 19 से प्रभावित तथा संदिग्ध मतदाताओं को घर बैठे डाक मतदान करने की सुविधा हासिल करने के लिए स्वयं या अपने प्रतिनिधि के जरिए अपने क्षेत्र के रिटर्निग आॅफीसर के पास आवेदन करना होगा।

मतदान से पांच दिन पहले तक इसके लिए आवेदन किया जा सकेगा।  इसके लिए उन्हें फार्म 12 भरकर निर्वाचन क्षेत्र के रिटर्निंग अधिकारी को आवेदन करना होगा। डाक मतपत्र से मतदान कराने की प्रक्रिया मतदान दिवस के एक दिन पहले पूर्ण कर ली जाएगी। मतदान से पांच दिन पहले तक जो मतदाता डाक मतपत्र से मतदान के लिए आवेदन नहीं कर पाएंगे उन्हें यह सुविधा नहीं मिल पाएगी और फिर उन्हें मतदान केन्द्र पर जाकर मतदान करना होगा।

चुनाव से जुड़े जिला प्रशासन के अधिकारी डाकमतपत्र देने ऐसे मतदाताओं के घरों पर पहुंचेंगे और जब वे डाक मतपत्र देंगे और मतदाता से वापस लेंगे तो इसकी वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी। संबंधित मतदाता तक पहुंचकर उसे डाक मतपत्र देने के लिए प्रशासन की टीम अधिकतम दो प्रयास करेगी। इस दौरान मतदाता घर पर नही मिलता है तो उन्हें डाक मतपत्र नहीं मिल सकेंगे। डाक मतदान का विकल्प भरने वाले मतदाताओं का उल्लेख मतदाता सूची में भी किया जाएगा। यह सूची राजनीतिक दलों और मतदान केन्द्र पर बैठे पीठासीन अधिकारी, रिटर्निंग अधिकारी, सहायक रिटर्निंग अधिकारी और मतदान सहायकों को आबंटित की जाएगी। डाक मतपत्र लेने में विफल रहने वाले मतदाता मतदान केन्द्र पर पहुंचकर भी मतदान नहीं कर पाएंगे।

Tags

Related Articles

Close