भोपाल

लॉकडाउन से प्रभावित लोगों को रोजगार और क्षेत्र में विकास के कार्य किए जा रहे हैं – स्वास्थ्य मंत्री डॉ चौधरी

भोपाल

स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने रायसेन स्थित वनमण्डल परिसर में आयोजित कार्यक्रम में अनेक योजनाओं के 455 हितग्राहियों को लाभान्वित किया। जिसमें पीएम आवास योजना, पीएम पथ विक्रेता आत्मनिर्भर स्वनिधि योजना तथा आवासीय पट्टा वितरण के हितग्राहियों को लाभान्वित किया। स्वास्थ्य मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि सरकार लॉकडाउन से प्रभावित लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के साथ ही क्षेत्र में विकास कार्य किए जा रहे हैं।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि कोरोना महामारी के कठिन दौर में छोटे-छोटे व्यापारियों, पथ विक्रेताओं को अपना व्यवसाय पुनः प्रारंभ करने के लिए स्ट्रीट वेण्डर योजना के तहत 10-10 हजार रूपए की कार्यशील पूंजी ऋण के रूप में उपलब्ध कराई जा रही है और इसका ब्याज प्रदेश सरकार द्वारा जमा किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि नगरीय क्षेत्रों के पथ विक्रेताओं के लिए प्रारंभ की गई स्ट्रीट वेण्डर योजना का मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विस्तार करते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में भी इस योजना को लागू किया है। इससे ग्रामीण क्षेत्रों के स्ट्रीट वेण्डर्स, पथ विक्रेताओं को भी इसका लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अन्य राज्यों से लौट कर आए प्रवासी श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए गांवों में मनरेगा के तहत विकास और निर्माण कार्य स्वीकृत किए गए, जिससे प्रवासी श्रमिकों के साथ-साथ स्थानीय ग्रामीणों को भी रोजगार मिल रहा है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना महामारी के नियंत्रण के लिए मुख्यमंत्री चौहान तथा उनके द्वारा प्रतिदिन प्रदेश में कोरोना की स्थिति की समीक्षा की जा रही है। प्रदेश में कोरोना नियंत्रण के लिए आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं। चिकित्सालयों में वेंटीलेर सहित अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार किया जा रहा है। उन्होंने कोरोना संक्रमण से नियंत्रण और बचाव के लिए नागरिकों से मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि कोरोना की इस लड़ाई में सभी का सहयोग जरूरी है।

प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन

उन्होंने कहा कि रायसेन जिले के 9 प्राथमिक केन्द्रों सहित सीहोर, विदिशा एवं राजगढ़ जिले के 50 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन सेवा प्रारम्भ की गई है। ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन केन्द्रों के माध्यम से मरीजों को एम्स के विशेषज्ञ चिकित्सकों से उपचार हेतु परामर्श प्राप्त हो सकेगा। ग्रामीण क्षेत्रों के, दूर-दराज के क्षेत्रों के लोग जो एम्स नहीं जा सकते, वह ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन केन्द्र में आकर उपचार करा सकेंगे। इन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में प्रशिक्षित चिकित्सक मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण करेंगे तथा आवश्यकतानुसार एम्स के विशेषज्ञ चिकित्सकों से मरीज के उपचार के संबंध में परामर्श प्राप्त करेंगे। विशेषज्ञ चिकित्सक के परामर्श अनुसार प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र से मरीजों को दवाईयाँ दी जाएगीं। ई-संजीवनी टेलीमेडिसिन केन्द्रों में 63 प्रकार की दवाएं उपलब्ध रहेंगी।

455 हितग्राहियों को किया गया लाभान्वित

कार्यक्रम में रायसेन नगर के 128 पथ विक्रेताओं को 10-10 हजार रूपए के ऋण स्वीकृति पत्र वितरित किए। पीएम आवास योजना के तहत बीएलसी घटक के 28 हितग्राहियों को प्रथम किश्त के एक-एक लाख रूपए, 56 हितग्राहियों को द्वितीय किश्त के एक-एक लाख रूपए की राशि स्वीकृति की गई। इसके साथ ही रायसेन नगर के 243 हितग्राहियों को आवासीय पट्टा स्वीकृत किया गया है।

Tags

Related Articles

Close