देश

मंदिर आंदोलन में आहुति देने वालों से कराना चाहिए भूमि पूजन: प्रवीण तोगड़िया

अयोध्या 
अंतररार्ष्ट्रीय हिंदू परिषद (अहिप) के अध्यक्ष एवं श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निमार्ण के आंदोलन से जुड़े प्रवीण भाई तोगड़िया ने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निमार्ण के आंदोलन में जिन लोगों ने बलिदान दिया है उन्हीं के परिवार के लोगों से मंदिर निमार्ण के लिए भूमि पूजन कराना चाहिए। तोगड़िया रविवार को यूनीवार्ता से टेलीफोन पर बातचीत करते हुए कहा मंदिर निमार्ण के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा होने वाले भूमि पूजन को मंदिर आंदोलन में जान गंवाने वाले व्यक्ति के परिवार वालों से कराना चाहिए। उन्होंने कहा कि अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर बनने जा रहा है। इससे हमारा जीवन धन्य हो गया है। क्योंकि पूरे देश में घूम-घूमकर संत-धर्माचार्यों के सानिध्य में रह करके मंदिर आंदोलन को कई वर्षों तक चलाता रहा, उसके बाद उच्चतम न्यायालय ने भव्य मंदिर निमार्ण के लिए जो आदेश दिया है इससे मेरा जीवन धन्य हो गया है। उन्होंने कहा हमने अपना धर्म कर्म अदा किया है, क्योंकि मैं अस्पताल में रह करके करीब एक हजार मरीजों का सेवा करता था परन्तु राम के बुलावे में अयोध्या में आ करके राम आंदोलन से जुड़ गया और आज मंदिर बनने जा रहा है, जिससे मेरा जीवन धन्य हो गया है। मैं रामलला का दर्शन करने अवश्य आऊंगा। तोगडिय़ा ने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निमार्ण के भूमि पूजन पर 1985, 1990, 1992 में जिन-जिन रामभक्तों ने बलिदान दिया है उनके परिवार के एक-एक सदस्य को बुलाना चाहिए। 

उन्होंने कहा कि विश्व हिन्दू परिषद के अंतरार्ष्ट्रीय अध्यक्ष रहे अशोक सिंहल, गिरिराज किशोर के भी परिवार को इस भूमि पूजन में बुलाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो यह ट्रस्ट बना है वह सोमनाथ मंदिर की तर्ज पर नहीं है। इस ट्रस्ट में पंद्रह ट्रस्टी के बजाय पांच सौ एक लोगों का नाम होना चाहिए जिसमें हिंदू के सभी जातियों को सम्मिलित करना चाहिए था। वर्तमान में जो ट्रस्ट बना है इसमें गिने-चुने लोग ही हैं। एक प्रश्न के उत्तर में श्री तोगड़िया ने कहा मुझे श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट से कोई निमंत्रण नहीं भेजा गया है, ना ही टेलीफोन द्वारा मुझे कोई सूचना दी गई है। मंदिर बनने से मेरा जीवन धन्य हो गया है और यह मंदिर सभी हिंदुस्तानियों के सहयोग से बन रहा है, क्योंकि इसमें सभी धर्म-जाति के लोगों ने बलिदान दिया है। उन्होंने कहा कि मंदिर निमार्ण के लिए जिन-जिन लोगों ने बलिदान दिया है उन्हीं के परिवार वालों से भूमि पूजन कराना चाहिए। अहिप अध्यक्ष ने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि परिसर में भव्य मंदिर का निमार्ण सुप्रीम कोर्ट के आदेश से हो रहा है ना कि केन्द्र सरकार द्वारा कानून बना करके। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि 1991 का कानून केन्द्र सरकार ने नहीं हटाया तो पांच अगस्त 2020 से अंतरार्ष्ट्रीय हिंदू परिषद मथुरा और काशी के लिए लड़ाई लडऩे के लिए विवश हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अयोध्या यह झांकी है, काशी-मथुरा बाकी है। देश के बीस हजार स्थानों पर भव्य मंदिर निमार्ण के लिए हो रहे भूमि-पूजन की खुशी तो हम मनाएंगे ही उसके बाद काशी, मथुरा को मुक्त कराने के लिए हमारा संकल्प दोहराया जाएगा।  उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने कारसेवा की है उनके परिवार वालों को भी ट्रस्ट में स्थान नहीं दिया गया है। यह बड़ी विडम्बना की बात है, क्योंकि मंदिर निमार्ण भी एकता का सबूत है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का जिस दिन फैसला आया है उस दिन पूरे देश में कहीं भी कोई घटना नहीं सुनाई पड़ी बल्कि सभी ने इस फैसले को माथों से लगाया है और भव्य मंदिर निमार्ण के लिए अपना योगदान दिया है।

Related Articles

Close