जबलपुर

उमरिया जिले का हो रहा विकास, 416 गांव जुड़ गए पीएम सड़क से

उमरिया
महाप्रबंधक प्रधानमंत्री ग्राम सडक योजना के के खरे ने बताया है कि जिले में प्रधानमंत्री ग्राम सडक योजना की शुरूआत 25 दिसंबर 2000 से की गई थी। पी एन जी एस वाय प्रथम चरण मे सन 2001 की जनगणना को मान्य करते हुए आदिवासी विकास खण्ड के सभी राजस्व ग्राम जिनकी आबादी 250 से अधिक या सामान्य विकासखण्ड जिनकी आबादी 500 से अधिक थी वाले समस्त ग्रामों को पक्की सड़को से जोडा जाना था। योजना के तहत जिले में 285 सडको का निर्माण किया गया जिससे 416 ग्रामों को जीवंत संपर्क से जोडा गया । इन ग्रामों में निवास करने वाले 3 लाख 21 हजार 773 जनसंख्या लाभान्वित हुई। प्रथम चरण में 1281.22 किमी सडक का निर्माण किया गया जिसमें 38313.60 लाख रुपए व्यय किए गए।  

प्रथम चरण में 2262.62 लाख रुपए की लागत से 12 पुलों का निर्माण किया गया। इस परियोजना के क्रियान्वित हो जाने से आम जनता को आवागमन में सुविधा प्राप्त हुई है तथा जिले के गांव जिला मुख्यालय , तहसील मुख्यालय एवं विकासखण्ड मुख्यालय से जुड़ गए है। साथ ही गांव में आने जाने की सुविधा भी प्राप्त होने लगी है अब लोग स्वयं के वाहनों अथवा आॅटो, रिक्शा, बस, ट्रेक्टर आदि के माध्यम से हाट बाजार , कृषि , शिक्षा , स्वास्थ्य , वनोपज विक्रय तथा दैनिक कार्याे हेतु आसानी से आवागमन कर सकते हैं । सड़को के बन जाने से शिक्षा के क्षेत्र में अमूल चूक परिवर्तन आया है । गांव गांव से विद्यार्थी नगरीय क्षेत्रों में अपने वाहनों से आवागमन कर शिक्षा प्राप्त कर रहे है।

प्रधानमंत्री सडक योजना के क्रियान्वित होने से जिले के पर्यटक एवं दार्शनिक स्थल आपस मे जुड गए है। लोगों को रोजगार के नये साधन सुलभ हुए है जिससे उनकी आय में वृद्धि हुई है। वर्तमान में पीएमजीएसवाय के तृतीय चरण का कार्य प्रारंभ हो चुका है। योजना अंतर्गत 13 बड़े पुल स्वीकृत हुए थे, जिनमें से 12 पुलो का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। प्रधानमंत्री ग्राम सडक योजना से गांव एवं जिले तथा प्रदेश की प्रगति हुई है। 

Related Articles

Close