भोपाल

10 दिन का लॉकडाउन, सरकार ने बहनों से की अपील- राखी पार्सल करके मनाएं त्योहार

भोपाल
कोरोना संक्रमण में तेज़ी देखते हुए राजधानी भोपाल को अगले 10 दिन के लिए लॉकडाउन किया जा रहा है. इस बार 24 जुलाई रात 8:00 बजे से शुरू होने वाला लॉकडाउन 4 अगस्त को सुबह 8 बजे खुलेगा. सरकार ने रक्षाबंधन को देखते हुए बहनों से अपील की है कि वे राखियां पार्सल करके त्‍योहार मनाएं. इस बीच भोपाल में 10 दिन के टोटल लॉकडाउन को देखते हुए अब उन 25 इलाकों को अनलॉक कर दिया गया है, जहां अभी लॉकडाउन था. अब इन इलाकों में 23 और 24 जुलाई को बाज़ार और दफ्तर खुले रहेंगे.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भोपाल में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए 24 जुलाई रात 8 बजे से 4 अगस्त सुबह 8 बजे तक तक लॉकडाउन करने का निर्णय लिया गया है. इस दौरान सब्जी, दूध, दवाई आदि जरूी सेवाएं जारी रहेंगी. उद्योग-धंधे भी चालू रहेंगे. उन्होंने जनता से अपील की है कि सभी सतर्कताएं बरती जाएं, जिससे संक्रमण और न फैले.

मुख्यमंत्री ने मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग से प्रदेश में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्था की समीक्षा की. भोपाल जिले की समीक्षा में पाया गया कि यहां 1 सप्ताह की औसत कोरोना पॉजिटिविटी रेट 10.23% है. बैठक में प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह, चिकित्सा शिक्षा, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास मंत्री विश्वास सारंग, लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान मौजूद थे.

ग्वालियर जिले की समीक्षा में पाया गया कि लॉकडाउन के कारण 7 दिन से वहां कोरोना संक्रमण की दर 7 प्रतिशत से घटकर 4  प्रतिशत पर आ गई है. अब वहां क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप ने लॉकडाउन खोलने का निर्णय लिया है. मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने निर्देश दिए कि पूरी सावधानी बरती जाए और गाइडलाइन का सख्ती से पालन कराया जाए. फोन पर चिकित्सकीय सलाह के लिए टेली मेडीसिन का प्रयोग किया जाए. अन्य राज्यों से आने वाले व्यक्तियों की हेल्थ स्क्रीनिंग की अच्छी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए. ग्वालियर में 1083 मरीज स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं, अभी एक्टिव मरीजों की संख्या 706 है, मृत्यु दर 0.5 प्रतिशत है.

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि संक्रमण रोकने के लिए होम क्‍वारंटीन को प्रभावी किया जाए. इसके लिए लोगों को जागरूक करने की ज़रूरत है. जिन घरों में होम आइसोलेशन की व्यवस्था हो, वहां किया जाए. मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने भी होम क्‍वारंटीन को अधिक उपयोगी बताया.

बड़वानी एवं धार जिले की समीक्षा के दौरान मंत्री विश्वास सारंग ने वहां टेस्टिंग बढ़ाने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि संक्रमण रोकने के लिए प्रभावी कार्रवाई की जाए. खरगौन जिले की समीक्षा के दौरान संक्रमण रोकने के लिए विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए. रायसेन और विदिशा में भी अधिक पॉजिटिविटी दर होने से वहां गाइडलाइन्स का सख्ती से पालन करने के लिए कहा गया.

छतरपुर जिले की समीक्षा में पाया गया कि वहां सैम्पलिंग में लापरवाही हुई है. मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री चौहान ने वहां के सी.एम.एच.ओ. को तत्काल हटाने के निर्देश दिए. मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि प्रत्येक जिले के लिए बनाए गए प्रभारी अधिकारी अपने प्रभार के जिलों में कोरोना को कंट्रोल करने के हरसंभव प्रयास करें. वे तुरंत जिलों का दौरा कर वहां की स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप से चर्चा कर कार्रवाई सुनिश्चित करें. साथ ही हर जिले में सर्वोत्तम इलाज उपलब्ध करवाकर, मृत्यु दर को न्यूनतम किया जाए. संक्रमण को प्रभावी ढंग से रोका जाए.

सरकार के भोपाल लॉक डाउन के फैसले के बाद भोपाल ज़िला प्रशासन ने अपना ही एक आदेश निरस्त कर दिया है. भोपाल के 25 इलाके 21 मार्च की रात से 24 और 25 जुलाई तक लॉक डाउन किए गए थे. लेकिन अब एस डी एम ने आदेश निरस्त कर दिए हैं. जिन इलाकों में लॉक डाउन किया गया था वहां अब सरकार के 10 दिन के लॉक डाउन के नये आदेश को देखते हुए 23 और 24 जुलाई की रात 8 बजे तक सारे बाज़ार खुले रहेंगे. इन इलाकों में हनुमानगंज, लोहा बाजार, करोंद, बाग सेवानिया, पीर गेट, बुधवारा, इतवारा ,टीटी नगर सहित सभी 25 इलाके शामिल हैं.अब पूरे शहर में एक साथ 24 जुलाई की रात 8 बजे से टोटल लॉकडाउन रहेगा.

Related Articles

Close