देश

लखनऊ में एक दिन में रिकाॅर्ड 392 नए मरीज, संघ प्रचारक समेत चार की मौत 

 लखनऊ 
यूपी की राजधानी लखनऊ में कोरोना का बम रविवार को फूटा है। संघ के प्रचारक समेत चार लोगों की मौत हो गई है, जबकि 392 नए मामले सामने आए हैं। यह अब तक का एक दिन का सबसे अधिक रिकार्ड दर्ज किया गया है। राजधानी में मौत का आंकड़ा 50 और मरीजों की संख्या चार हजार के पार चली गई है। 

बलरामपुर अस्पताल के निदेशक डॉ. राजीव लोचन ने बताया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी व प्रचारक राजेंद्र नगर निवासी बुजुर्ग (90) की शनिवार को मौत हो गई। उन्हें बुखार के साथ सांस लेने की समस्या थी। उन्हें शुक्रवार को अस्पताल लाया गया। लक्षण देखते हुए संदिग्ध मरीजों के वार्ड में भर्ती किया गया। उनकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उनके इलाज में लगे डॉक्टर व कर्मचारियों की जांच कराकर होम क्वारंटीन रहने को कहा गया है।

 वहीं, केजीएमयू के कोरोना वार्ड में भर्ती हुसैनगंज निवासी महिला (55) की रविवार को मौत हो गई। उसे दो दिन पहले केजीएमयू में भर्ती कराया गया था। इसके अलावा रेलवे के लेखा विभाग में तैनात सीनियर सेक्शन अफसर (55) की कोरोना से केजीएमयू में  मौत हुई है। उन्हें डायबिटीज भी थी। केजीएमयू मीडिया प्रभारी डॉ सुधीर सिंह ने बताया कि महिला को अन्य गंभीर दिक्कत थी। लोहिया संस्थान के मीडिया प्रभारी डॉ श्रीकेश सिंह ने बताया कि मुंशी पुलिया निवासी बुजुर्ग (64) को 14 जुलाई को भर्ती किया गया था। मरीज के फेफड़ों में संक्रमण था। उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया। रविवार को मौत हो गई। 

बुखार से पीड़ित एक पुरुष नर्स की मौत
शहर के एक निजी अस्पताल में शनिवार देर रात एक पुरुष नर्स की मौत हो गई। परिवारीजनों का आरोप है कि वह अस्पताल में ड्यूटी जाने के बाद बुखार से पीड़ित हो गया था। तेज बुखार और शरीर दर्द के बाद उसे उसी अस्पताल पहुंचे थे, जहां वह ड्यूटी करता था। यहां पहुंचने के बाद ही उसकी मौत हो गई। 

अवध बस डिपो के एआरएम कोरोना पॉजटिव
परिवहन निगम मुख्यालय से सटे हुए अवध बस डिपो के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक (एआरएम) गोपाल दयाल कोरोना जांच में पॉजटिव पाए गए। रविवार दोपहर रिपोर्ट आने के बाद रोडवेज मुख्यालय से लेकर क्षेत्रों में हड़कंप मच गया। एआरएम गोपाल दयाल ने बताया कि नौ जुलाई से तबीयत खराब है। तब से कार्यालय भी नहीं गया। इस बीच लगा कि मुझे कोरोना के कुछ लक्षण प्रतीत हो रहे हैं। ऐसे में 10 जुलाई से घर में ही हैं। 15 जुलाई को कोरोना जांच कराया था। जांच रिपोर्ट 19 जुलाई को पॉजटिव आने के बाद डॉक्टर की निगरानी में इलाज करा रहे हैं। 

नगर निगम नेता संक्रमित 
संक्रमित होने वाले मरीजों में नगर निगम के वरिष्ठ लिपिक और नगर निगम महापालिका संघ के अध्यक्ष भी हैं। एलडीए से सेवानिवृत्त उनके भाई की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। इसी तरह गोमती नगर, एलडीए कॉलोनी, इन्दिरा नगर समेत अन्य इलाकों से भी लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 

नगर आयुक्त से गुहार भी काम नहीं आई

पॉजिटिव पाए गए नगर निगम महापालिका संघ के अध्यक्ष व उनके भाई को कुछ दिन से बुखार आ रहा था। दोनों ने जांच कराई। शनिवार को जांच रिपोर्ट में संक्रमण की पुष्टि हुई। उनके बेटे बेटे उत्कर्ष का आरोप है कि नगर निगम में कई लोग पॉजिटिव पाए गए थे। उनके संपर्क में आने से वह वायरस की चपेट में आए। इसकी जानकारी नगर आयुक्त से लेकर अन्य अधिकारियों तक को दी गई। लेकिन दो दिन तक उन्हें बेड नहीं मिला। ऐसी में घर में ही क्वारंटीन किए हुए हैं। दोनों लोगों की उम्र अधिक है। बुखार लगातार बढ़ रहा है। किसी ने गंभीरता से नहीं लिया। यही नहीं टीम बैरिकेडिंग के लिए भी नहीं पहुंची। इलाका सैनिटाइज भी नहीं कराया गया है। 

नाका पुलिसकर्मी भी संक्रमित 
नाका कोतवाली में तैनात पांच पुलिस कर्मी भी कोरोना संक्रमित मिले हैं। चारबाग के नत्था चौकी इंचार्ज व इंस्पेक्टर का ड्राइवर भी पॉजिटिव मिला है। 

यहां भी संक्रमित मिले 
इन्दिरा नगर में 19, अलीगंज 12, सीतापुर रोड 13, टूड़ियागंज चार, सआदतगंज दो, सरोजनी नगर तीन, चौक पांच, कैंट रोड एक, ऐशबाग चार, न्यू हैदराबाद दो, आलमबाग पांच, बालागंज चार, बीकेटी तीन, एलडीए काॅलोनी छह, जिला जेल दो, अमौसी एक, शहीद पथ सात, गोमती नगर विस्तार दो, राजेंद्र नगर चार, जानकीपुरम तीन, गुडम्बा एक, यहियागंज दो, माॅडल हाउस चार, त्रिवेणी नगर दो, सरफराजगंज एक, मानस नगर एक, सुरेंद्र नगर एक, महानगर पांच, ठाकुरगंज एक, कानपुर रोड चार, कश्मीरी मोहल्ला एक, हैदरगंज व बरावनकला एक मरीज मिले हैं। 

Related Articles

Close