राजनीति

सचिन पायलट समेत 27 विधायक बीजेपी के संपर्क में, ये सवाल करते हैं गहलोत सरकार पर संकट के इशारे

जयपुर 
 दिसंबर 2018 में कांग्रेस जब राजस्थान में सरकार बनाने में सफल हुई तो इसे कांग्रेस की वापसी कहा गया था, लेकिन अब कांग्रेस के सामने अपने आखिरी किलों में से एक राजस्थान को बचाने की चुनौती है. अशोक गहलोत और सचिन पायलट की तनातनी नई नहीं, लेकिन मौजूदा संकट बताता है कि कांग्रेस दोनों खेमों को एक रखने में कामयाब नहीं है.

हालांकि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इस सियासी उठापटक के बीच अपने तीन नेताओं को जयपुर भेजा है, लेकिन सचिन पायलट ने गहलोत सरकार के अल्पमत में होने की बात कहकर साफ इशारा कर दिया है कि राजस्थान में कांग्रेस के लिए कुछ ठीक नहीं है.

बताया जा रहा है कि सचिन पायलट समेत 27 विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं. पायलट के बीजेपी में शामिल होने की भी चर्चाएं जोरों पर हैं. वहीं, गहलोत खेमे ने भी 100 से अधिक विधायकों के समर्थन का दावा किया है. हालांकि सीएम की बैठक में इतने विधायक नहीं पहुंचे, इसलिए सोमवार को विधायक दल की बैठक बुलाई गई है. खबर ये भी है कि पायलट खेमे के विधायक जल्द ही इस्तीफा सौंप सकते हैं.

गहलोत सरकार पर संकट का इशारा करते ये सवाल…

– बागी विधायक सचिन पायलट के साथ हरियाणा के मेवात में रुके हुए हैं, जहां बीजेपी की सरकार है.

– सचिन पायलट की ओर से कह दिया गया है कि गहलोत सरकार अल्पमत में है. ये अपने में ही बहुत गंभीर बात है.

– शनिवार से लेकर अभी तक कांग्रेस के किसी नेता से सचिन पायलट की बातचीत नहीं हुई है, लेकिन पायलट ने सिंधिया से मुलाकात की है. अब खबर है कि वह अमित शाह से भी मुलाकात कर सकते हैं.

– गहलोत की डिनर पार्टी में शो ऑफ नहीं हो पाया क्योंकि विधायक उतनी संख्या में नहीं पहुंचे, इसलिए सोमवार को विधायक दल की बैठक बुलाई गई है.

– विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट हिस्सा नहीं ले रहे हैं. इस बात का वह खुद ही ऐलान कर चुके हैं.

राजस्थान का नंबर गेम

कुल सीट- 200

बहुमत के लिए-101

कांग्रेस-107

निर्दलीय-12

अन्य-6

——–

बीजेपी-72

आरएलपी-3

नोटिस से हुए थे नाराज

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनके डिप्टी सचिन पायलट खुलकर तो एक-दूसरे के सामने नहीं आए हैं, लेकिन पायलट खेमा बेहद नाराज था क्योंकि राजस्थान पुलिस के SOG ने सचिन पायलट को विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले की जांच के लिए समन भेजा है.

ज्योतिरादित्य सिंधिया की राह पर पायलट! 40 मिनट की मुलाकात पर लगीं अटकलें

वैसे विधायकों की खरीद फरोख्त के मामले को लेकर जिन 2 लोगों को गिरफ्तार किया गया था, उसे लेकर अशोक गहलोत भी SOG के सामने अपना बयान दर्ज कराएंगे. लेकिन राजनीति की निगाहें और उसका निशाना कहां है, ये घटनाक्रमों से तय होता है.
 

Tags

Related Articles

Close