भोपाल

10 हजार रुपए जमा फिर भी अब तक नहीं लगे नल कनेक्शन, 60 फीसदी एरिया में नल कनेक्शन नहीं

भोपाल
नगर निगम जलकार्य शाखा के आला अधिकारियों की उदासीनता का खामियाजा जोन क्रमांक 18 कोलार के आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है। दरअसल पिछले 5 महीने से नल कनेक्शन कागजों में अटके हुए हैं। पेंडिंग कनेक्शन की लिस्ट इतनी लंबी है कि अफसर बताने से कतरा रहे हैं। क्षेत्र के करीब 60 फीसदी एरिया में नल कनेक्शन नहीं हुए हैं जबकि सैकड़ों लोगों ने कनेक्शन के लिए 10 हजार रुपए फरवरी माह में जमा करवाए थे। अनलॉक के बाद से लोगों ने निगम मुख्यालय और वार्ड कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही।

सूत्र बताते हैं कि नगर यंत्री एआर पवार की निर्माणकर्ता एजेंसी के साथ मिलीभगत के कारण कंपनी के कर्मचारी मनमर्जी से काम कर रहे हैं। वहीं, प्रोजेक्ट इंजार्च जीतेंद्र गुप्ता पहले उनका कनेक्शन करवाते हैं, जहां से उन्हें फायदा होता है।

बंजारी डी सेक्टर निवासी विनोद कुमार जैन के नाम से केरवा कनेक्शन के लिए 25 फरवरी को 10 हजार रुपए जमा करवाए गए थे। विनोद का कहना है कि कनेक्शन करवाने के लिए अनलॉक के बाद से वह मुख्यालय और वार्ड कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं। पूछने पर जवाब मिलता है, लॉकडाउन के कारण कनेक्शन नहीं हो पाया था, आज-कल में हो जाएगा। विनोद कहते हैं कर्मचारी सिर्फ परेशान कर रहे हैं। हमारा परिवार पानी की एक-एक बूंद परेशान है। वार्ड 83 के कार्यालय में 5 से 10 लोग रोज पूछने आते हैं कि कब होगा कनेक्शन?

जलकार्य शाखा के सहायक यंत्री जीतेंद्र गुप्ता का कहना है कि कनेक्शन का जिम्मा निर्माणकर्ता एजेंसी पर है। कंपनी को 20 कनेक्शन का टारगेट रहता है। कर्मचारी 20 से 25 कनेक्शन करते हैं। सूत्रों की मानें तो हकीकत इसके उलट है। कंपनी के पास कर्मचारियों का अभाव है। इस कारण दिनभर में 3 से 5 कनेक्शन होते हैं। पेंडिंग कनेक्शन की सूची 100 से अधिक बताई जा रही है। जोन 18 के वार्ड 80, वार्ड 82 और वार्ड 83 में नल कनेक्शन होने हैं। वार्ड 83 में पेंडिंग कनेक्शनों की सूची सबसे लंबी है। जहां प्रोजेक्ट का काम हो चुका है, वहां कनेक्शन के काम लेटलतीफी की जा रही है।

Related Articles

Close