राजनीति

चुनाव से पहले राजस्थान में चुनावी सरगर्मी तेज

 
जयपुर 

राज्यसभा की तीन सीटों पर चुनाव से पहले राजस्थान में चुनावी सरगर्मी तेज हो गई है. कांग्रेस ने अपने विधायकों को बुधवार से ही जयपुर के होटल में ठहराया है. उन्हें डर है कि उनके विधायक भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के संपर्क में न आ जाएं. दूसरी ओर बीजेपी का कहना है कि राजस्थान सरकार में असुरक्षा की भावना है, इसीलिए विधायकों को घेर कर रखा गया है. इन सभी उठापट के बीच गुरुवार को डिप्टी सीएम सचिन पायलट शिव विलास रिसॉर्ट पहुंचे जहां कांग्रेस व निर्दलीय विधायक ठहराए गए हैं.
 
-राजस्थान के विधायकों की मीटिंग आज रात 9:30 बजे होगी. 9:30 तक कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल रिजॉर्ट पहुंचेंगे. उसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट दोनों रिजॉर्ट आएंगे.

-विधायकों से मिलने के बाद सचिन पायलट मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आने से पहले ही अपने समर्थक विधायकों के साथ रिजॉर्ट से मीटिंग से पहले ही निकल गए. पायलट ने कहा कि माहौल खराब करने की कोशिश जो भी कर रहा है, चाहे वह किसी भी पार्टी का हो कामयाब नहीं होगा.

इससे पहले खबर यह भी आई कि बीजेपी नेता और पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के करीबी निर्दलीय विधायक भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ जा सकते हैं. इनमें से कई निर्दलीय विधायक कांग्रेस को समर्थन दे सकते हैं. बीजेपी के बागी नेता और निर्दलीय विधायक ओमप्रकाश हुडला ने कहा कि हम अशोक गहलोत के साथ हैं. वसुंधरा राजे के करीबी होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि वक्त के साथ फैसले लेने पड़ते हैं. हालांकि ओमप्रकाश हुडला ने उन्हें पैसे ऑफर किए जाने की खबरों से इनकार किया.

राजस्थान में 19 जून को राज्यसभा की तीन सीटों के लिए मतदान होगा, जहां कांग्रेस ने दो उम्मीदवार केसी वेणुगोपाल और नीरज डांगी को मैदान में उतारा है, जबकि बीजेपी ने भी दो उम्मीदवार- राजेंद्र गहलोत और ओमकार सिंह लखावत को मैदान में उतार कर चुनाव को रोचक बना दिया है. कांग्रेस के पास अपने 107 विधायक हैं और उसे आरएलडी के एक विधायक और निर्दलीय 13 विधायकों, बीटीपी और माकपा के विधायकों का समर्थन प्राप्त है. बीजेपी के पास 72 विधायक हैं और उसे आरएलपी के तीन विधायकों का समर्थन प्राप्त है.
 
गहलोत का आरोप

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आरोप लगाया है कि उनके और निर्दलीय विधायकों को पैसे का लालच दिया जा रहा है, इसलिए सभी विधायकों को जयपुर के शिव विलास होटल में रखा गया है. जयपुर में स्थित शिव विलास होटल में सादी वर्दी में 50 से ज्यादा पुलिस जवान तैनात हैं. इन सभी जवानों से आजतक ने बातचीत की. पुलिसकर्मियों ने कहा कि उच्च अधिकारियों ने हमें कहा है कि सादी वर्दी में यहां पर तैनात रहो और आने-जाने वाले पर ध्यान रखो और साथ ही विधायकों पर नजर रखो.

बीजेपी का जवाब

बीजेपी ने उलटा आरोप सत्तारूढ़ पार्टी पर ही मढ़ा है और कहा है कि गहलोत सरकार खुद में असुरक्षित है और कांग्रेस पार्टी को खुद अपने विधायकों पर भरोसा नहीं है. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने बुधवार को कहा कि कांग्रेस पार्टी अब विधायकों को घेर कर रख रही है. इसका संकेत मुख्यमंत्री के बयान में मिला जिसमें उन्होंने कहा कि वे इस मामले पर काफी चिंतित हैं. आज इस आशंका का सबूत मिल गया. पूनिया ने कहा, सरकार अगर सुरक्षित है, कोई अंदरूनी कलह नहीं है या कोई खतरा नहीं है तो वे इतने दिनों तक विधायकों को क्यों रख रहे हैं.

Tags

Related Articles

Close