व्यापार

कोरोना संकट के दौर में ATM को बिना छुए रकम निकालने की हो रही तैयारी

नई दिल्ली
पैसा निकालने के लिए लोग बैंक की बजाय एटीएम को तरजीह देते हैं। लेकिन कोरोना संकट के दौर में लोग एटीएम जाने से डर रहे हैं। वहीं दुकानदार नकद लेने या कार्ड को स्वाइप करने में डर रहे हैं। इसे देखते हुए बैंक कॉन्टैक्टलेस एटीएम लाने की तैयारी कर रहे हैं।

एसबीआई और आईसीआईसीआई बैंक ने परीक्षण स्तर पर इसकी शुरुआत कर दी है। सूत्रों का कहना है कि करीब आधा दर्जन बैंक इस तकनीक वाले एटीएम लाने की तैयारी कर रहे हैं। कॉन्टैक्टलेस एटीएम में ग्राहक को स्क्रीन पर क्यूआर कोड को स्कैन करने के लिए बैंक के स्मार्टफोन एप का इस्तेमाल करना होगा। इसके बाद वह अपने मोबाइल पर निकाली जाने वाली राशि और एटीएम पिन डालेगा। फिर मशीन को छुए बगैर नकदी निकाल सकेगा। सबसे पहले बैंक ऑफ इंडिया ने इस तकनीक का परीक्षण किया था। उल्लेखनीय है कि इस साल जनवरी के मुकाबले एटीएम से लेनदेन की संख्या 67 करोड़ से घटकर 56 करोड़ रह गई।

छोटी-छोटी खरीदारी के लिए कार्ड का इस्तेमाल करने और पिन डालने से पिन नंबर चोरी होने का खतरा रहता है। कॉन्टैक्टलेस कार्ड में दो हजार रुपये तक के खर्च के लिए पिन जरूरी नहीं होता। वहीं कॉन्टैक्टलेस एटीएम में भी पिन की जरूरत नहीं होती है। ऐसे में यह दोनों ज्यादा सुरक्षित हैं।

कोरोना का डर इस कदर फैला हुआ है कि ज्यादातर दुकानदार मोबाइल एप से भुगतान को कह रहे हैं। ऐसा नहीं होने पर वह कॉन्टैक्टलेस कार्ड को तरजीह दे  रहे हैं। जिन ग्राहकों के पास यह विकल्प नहीं है उन्हें परेशानी हो रही है। दुकानदारों का कहना है कि सुरक्षा के मद्देनजर ऐसा कर रहे हैं।

मोबाइल एप से भुगतान सेवा देनी वाली कंपनी पेटीएम ने रेस्तरां एवं खान-पान वाले स्थानों पर स्कैन से जरिये ऑर्डर देने और उसका भुगतान करने की तकनीक पेश की है। कंपनी ने देश के 10 राज्यों से रेस्तरां एवं खान-पान से जुड़ी दुकानों पर इस तरह की सुविधा को जरूरी करने के लिए संपर्क किया है।

Related Articles

Close