देश

सुरक्षा बलों की 30 गाड़ियां और 400 जवान निशाने पर थे

नई दिल्ली
जम्मू कश्मीर में आतंकी फिर एक पुलवामा जैसे हमले की प्लानिंग कर रहे थे, जिसे पुलिस और सुरक्षा बलों के जवानों ने नाकाम कर दिया। इस हमले में निशाने पर सुरक्षा बलों की 20 गाड़ियां निशाने पर थीं, जिसमें सीआरपीएफ के करीब 400 जवान होते। पहले इस हमले को करने की प्लानिंग जंग-ए-बदर के दिन की थी, लेकिन तब से अबतक पुलिस ने अपनी तरफ से कोई सुरक्षा चूक नहीं होने दी जिसकी वजह से आतंकी अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो पाए। इस हमले में तीन आतंकियों के शामिल होने का पुलिस ने दावा किया है। इसमें पहले का नाम आदिल, दूसरे का फौजी भाई है। तीसरा कार का ड्राइवर था, जिसका पुलिस पता कर रही है। पुलवामा हमले की तरह इस मामले की जांच भी एनआईए को सौंप दी गई है।

400 जवान थे आतंकियों के निशाने पर
पुलिस को शक है कि जैश के निशाने पर सीआरपीएफ के 400 जवान थे। गुरुवार को सीआरपीएफ की 20 गाड़ियों का काफिला श्रीनगर से जम्मू पहुंचा है। पता चला है कि काफिला सुबह 7 बजे बक्शी स्टेडियम कैंप से जम्मू के लिए निकलना था। इस काफिले में सभी रैंक के अफसर और जवान शामिल थे।

जंग-ए-बदर क्या है
रमजान के 17वें रोजे को जंग-ए-बदर के नाम से जाना जाता है। इसी दिन इस्लाम के लिए पहली जंग लड़ी गई थी। जंग-ए-बदर 624 ई. में मदीना में लड़ी गई थी। कहा जाता है कि लड़ाई में एक तरफ मक्का के कुरैश कबिले के तकरीबन 1000 बड़े-बड़े योद्धा शामिल और दूसरी तरफ थे पैगम्बर और उनके 313 साथी। इनमें से ज्यादातर ने पहले कभी जंग नहीं लड़ी थी।

अरब क्षेत्र में यह लड़ाई बुराई के खिलाफ हुई बताई जाती है लेकिन जम्मू कश्मीर में इसी दिन आतंकी कई बार हमलों को अंजाम देने के लिए चुन चुके हैं। कश्मीर में भी कथित 'आजादी' के नाम पर हो रहे आतंकी हमले भी इसी का हिस्सा हैं। आतंकी वहां इसी दिन को इसलिए भी चुन रहे क्योंकि जंग 'आजादी' की न होकर इस्लाम की होती जा रही है। इस बात को मजबूत करता एक तथ्य भी है। दरअसल, पुलवामा आतंकी हमले में CRPF के 44 जवानों को शहीद करने वाला जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी आदिल अहमद डार ने अपने आखिरी मैसेज में यह बात साफ तौर पर कही थी कि उसकी जंग कश्‍मीर की आजादी के लिए नहीं, बल्कि इस्‍लाम के लिए है।

प्लान में शामिल था आतंकी 'फौजी भाई' और आदिल
कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने बताया कि उन्हें पहले से ऐसे हमले के इनपुट मिल रहे थे और वे पूरी तरह तैयार थे। बुधवार को इनुपट के बाद उन्होंने जगह-जगह पुलिस नाके लगाए। सेंट्रो कार जिसका इनपुट पुलिस पर था उसे नाके पर रोकने को कहा गया। नहीं रुकने पर फायरिंग हुई फिर आतंकी गाड़ी छोड़कर भाग गया। अंधेरे का फायदा उठाकर वह कहीं गायब हो गया। सुबह बम स्कॉड आया तो गाड़ी में आईईडी मिला। विजय कुमार के मुताबिक, इस साजिश में जैश का पाकिस्तानी कमांडर फौजी भाई शामिल है। उसकी उम्र करीब 45 साल बताई जाती है। आदिल नाम का कोई आतंकी भी इसमें शामिल था जो हिजबुल और जैश दोनों के लिए काम करता है। आदिल डार नाम का ही शख्स पुलवामा आतंकी हमले में शामिल था।