छत्तीसगढ़रायपुर

मुख्यमंत्री की पहल पर 1.53 लाख श्रमिकों की हुई छत्तीसगढ़ में सकुशल वापसी

रायपुर
नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन से उत्पन्न परिस्थितियों के कारण अन्य राज्यों में फंसे छत्तीसगढ़ के श्रमिकों को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की विशेष पहल पर सकुशल वापस लाने का सिलसिला जारी है। श्रमिक स्पेशल ट्रेनों एवं अन्य वाहनों में माध्यम से वापस आ रहे हैं, 23 मई तक छत्तीसगढ़ के एक लाख 53 हजार प्रवासी श्रमिकों की राज्य में सकुशल वापसी हो चुकी है। छत्तीसगढ़ शासन द्वारा अन्य प्रदेशों में फंसे श्रमिकों की सुरक्षित वापसी के लिए 53 श्रमिक स्पेशल ट्रेन प्रस्तावित है। श्रम मंत्री डॉ. शिव कुमार डहरिया ने बताया कि छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार मण्डल द्वारा रेल्वे को अब तक 32 स्पेशल ट्रेनों के परिचालन के लिए 2 करोड़ 91 लाख 40 हजार से अधिक की राशि का भुगतान किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि 34 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से अब तक छत्तीसगढ़ के 48 हजार 634 प्रवासी श्रमिकों एवं 346 अन्य यात्रियों को वापस लाया जा चुका है।

डॉ. डहरिया ने बताया कि देश व्यापी लॉकडाउन के चलते अन्य राज्यों में फंसे छत्तीसगढ़ के श्रमिकों, छात्रों एवं चिकित्सा की आवश्यकता वाले लोगों की वापसी को लेकर राज्य सरकार द्वारा कई एहतियाती कदम उठाए गए। छत्तीसगढ़ के प्रवासी श्रमिकों एवं अन्य लोगों की वापसी के लिए आॅनलाइन पंजीयन की व्यवस्था के तहत 23 मई तक कुल 2 लाख 96 हजार 587 लोगों ने पंजीयन कराया है, जिसमें 2 लाख 72 हजार 152 श्रमिक तथा शेष छात्र, तीर्थ यात्री, पर्यटक एवं अन्य लोग शामिल है। जिसमें से एक लाख 53 हजार श्रमिक एवं नागरिक छत्तीसगढ़ राज्य स्थित अपने गृह ग्राम वापस आ चुके हैं। छत्तीसगढ़ राज्य के भीतर अन्य जिलों में फंसे 13 हजार 237 श्रमिकों को सकुशल उनके गृह जिला भिजवाया गया है। वहीं छत्तीसगढ़ में फंसे अन्य राज्यों के 27 हजार 100 श्रमिक वापस अपने गृह राज्य जा चुके हैं।

श्रम मंत्री डॉ. डहरिया ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान अन्य राज्यों में फंसे छत्तीसगढ़ के 17 हजार 677 श्रमिकों को भोजन, राशन, चिकित्सा आदि की व्यवस्था व तत्कालिक राहत पहुंचाने के उद्देश्य से उनके खातों में 66 लाख 73 हजार रूपए की राशि का सीधे अंतरित की गई है। छत्तीसगढ़ राज्य के नोडल अधिकारी एवं श्रम सचिव सोनमणी बोरा एवं अन्य अधिकारियों द्वारा संबंधित राज्यों के अधिकारियों एवं नियोक्ताओं से लगातार सम्पर्क कर श्रमिकों की समस्याओं का निदान एवं छत्तीसगढ़ की श्रमिकों की सकुशल वापसी की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के निदेर्शानुसार राज्य में श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से भी लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। लॉकडाउन के द्वितीय चरण में 20 अप्रैल के बाद से शासन द्वारा औद्योगिक गतिविधियों के संचालन हेतु प्रदत्त छूट के मद्देनजर राज्य की 1337 फैक्टरियों एवं कारखानों का संचालन शुरू किया गया, जिसके जरिए एक लाख 02 हजार से अधिक श्रमिकों को फिर से काम मिलने लगा है। राज्य के फैक्टरियों एवं औद्योगिक संस्थानों में काम करने वाले 26 हजार 205 श्रमिकों को 37 करोड़ रूपए का बकाया वेतन का भुगतान कराया जा चुका है। राज्य के  65 हजार 408 श्रमिकों को नि:शुल्क इलाज एवं दवाएं उपलब्ध कराई गई है। राज्य में ईएसआई के माध्यम से संचालित कुल 42 क्लीनिक संचालित है। प्रवासी श्रमिकों एवं नागरिकों की मदद के लिए राज्य स्तर पर हेल्प लाइन सेंटर संचालित है जो 24 घंटे क्रियाशील है। हेल्प लाइन नंबर 0771-2443809 एवं 91098-49992 है।

Related Articles

Close