देश

अहमदाबाद में 140 फीसदी बढ़ा रिकवरी रेट, झज्जर में 100% ठीक

अहमदाबाद
देश भर में कोरोना के मामले एक लाख के पार हो गए हैं लेकिन इस बीच अच्छी खबर भी है। देश के कई हिस्सों में कोरोना से रिकवर होने वालों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है। संकट के इस वक्त में यह अच्छा संकेत है। अहमदाबाद नगर निगम ने दावा किया है कि बीते 15 दिनों में शहर में रिकवरी रेट में 140 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

अहमदाबाद के अलावा हरियाणा के झज्जर जिले में भी कोरोना से रिकवर होने वालों का आंकड़ा 100 फीसदी पहुंचने वाला है। बताया गया कि झज्जर में एक नया सामने आया मामला छोड़ दें तो जिले के सभी 90 मरीजों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है और उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। झज्जर पहले तो कोरोना से बिल्कुल अप्रभावित था लेकिन अचानक से जिले में कोरोना के मामलों की संख्या बढ़कर 90 हो गई थी।

अहमदाबाद से अच्छी खबर
वहीं कोरोना के बड़े प्रभावित इलाकों में शुमार अहमदाबाद से भी अच्छी खबर सामने आ रही है। गुरुवार को 24 घंटों में 25 लोगों की कोरोना से मौत होने के बीच जिले में रिकवरी रेट बढ़ने का दावा किया गया है। आईएएस राजीव गुप्ता ने बताया कि शहर में 5 मई को रिकवरी रेट 15.85 प्रतिशत था। वहीं गुजरात का रिकवरी रेट 22.11 प्रतिशत और भारत का रिकवरी रेट 28.62 प्रतिशत था। उन्होंने दावा किया कि पिछले पखवाड़े में अहमदाबाद प्रशासन द्वारा अपनाई गई बहुस्तरीय रणनीति के कारण शहर में रिकवर होने वालों की संख्या अप्रत्याशित रूप से बढ़ी है।

गुप्ता ने बताया कि गुजरात के 92 प्रतिशत और भारत के 43 प्रतिशत के मुकाबले अहमदाबाद में रिकवरी रेट्स में 140 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई है। 21 मई को शहर में रिकवर होने वालों की दर 38.1 दर्ज की गई थी। वहीं, इसी दिन गुजरात में रिकवरी रेट 42.51 प्रतिशत और भारत की रिकवरी रेट 41.06 प्रतिशत थी। गुप्ता ने हालांकि, शहर में बढ़ते रिकवरी रेट के पीछे के कारणों को लेकर पूछे गए सवालों का कोई जवाब नहीं दिया।

140 फीसदी रिकवरी रेट बढ़ने का मतलब
वैसे देखा जाए तो अहमदाबाद में कोरोना के कहर में कमी नहीं आई है। गुरुवार को गुजरात राज्य में कोरोना से 29 लोगों की मौत हुई। इसमें 25 लोग अकेले अहमदाबाद के हैं। अधिकारियों ने बताया कि 15 दिनों के अंतराल में कोरोना मरीजों की रिपोर्ट देखें तो अहमदाबाद में बीमारी से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 15 फीसदी से बढ़कर 38 फीसदी तक पहुंच गया। इस तरह से शहर में रिकवरी रेट दोगुने से भी ज्यादा हो गया।

वहीं इसके मुकाबले गुजरात राज्य में 15 दिन पहले जो रिकवरी रेट था, उसमें 92 प्रतिशत ही बढ़ोतरी दर्ज की गई। 5 मई तक प्रदेश में 22 फीसदी मरीज ठीक हो रहे थे जबकि 21 मई के आंकड़ों के मुताबिक रिकवर होने वाले कोरोना मरीजों की संख्या 42 फीसदी हो गई।

आईसीएमआर के नए दिशानिर्देशों से बढ़ा रिकवरी रेट
अहमदाबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (एएमसी) के अधिकारियों ने बताया कि अस्पताल से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों की बढ़ती संख्या के पीछे प्रमुख कारण आईसीएमआर के नए दिशानिर्देश भी हो सकते हैं। इसके तहत अब डिस्चार्ज किए जाने से पहले मरीज का कोरोना टेस्ट करना अनिवार्य नहीं है। साथ ही इलाज के 14 दिनों के भीतर अगर मरीज में कोविड-19 से संबंधित कोई भी लक्षण दिखाई नहीं देता तो उसे डिस्चार्ज किया जा सकता है।

हालांकि, अधिकारियों का कहना है कि आईसीएमआर के दिशानिर्देशों के अलावा अस्पताल के स्टाफ और कोविड केयर सेंटर्स द्वारा मरीजों की ठीक ढंग से देखभाल भी रिकवरी रेट बढ़ाने के पीछे जिम्मेदार है। उन्होंने बताया कि शहर में सर्विलांस करने वाली टीमों की संख्या भी बढ़ाई गई है। पहले 318 टीमें सर्विलांस के लिए लगी थीं, अब इनकी संख्या 616 हो गई है। उन्होंने कहा कि यह कोविड-19 मरीजों की जल्दी पहचान और रिकवरी रेट बढ़ाने में अहम भूमिका निभाएंगी।

Tags

Related Articles

Close