छत्तीसगढ़रायपुर

गंज मंडी में जेम्स एण्ड ज्वेलरी पार्क बनाने की योजना लटकी

रायपुर
पुरानी गंज मंडी की जमीन पर प्रस्तावित जेम्स एण्ड ज्वेलरी पार्क उलझ गया है। बताया गया कि मंडी बोर्ड जमीन के बदले जमीन अथवा बाजार दर पर जमीन की कीमत मांगी है। यही वजह है कि जमीन की अदला-बदली न हो पाने के कारण आगे का काम शुरू नहीं हो पा रहा है। इस बीच कोरोना के चलते विगत दो माह से इस विषय पर कोई चर्चा भी नहीं हो पाई है। एसोसिएशन और व्यापारियों का ध्यान भी पहले तो अपना कारोबार शुरू करने पर लगा हुआ है ऐसे में वे भी कोई रुचि नहीं ले रहे है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रायपुर में चौथा बड़ा जेम्स एण्ड ज्वेलरी पार्क बनाने की घोषणा की थी। इसके लिए पुरानी गंज मंडी में जमीन भी चिन्हित कर ली गई। पुरानी गंज मंडी की 10 लाख वर्गफीट जमीन पर 10 मंजिला जेम्स एण्ड ज्वेलरी पार्क की परिकल्पना की गई थी। मगर घोषणा के बाद अब इस दिशा में आगे कोई प्रगति नहीं हो पाई है। इस पूरी योजना के लिए सीएसआईडीसी ने मंडी बोर्ड से जमीन मांगी थी। पार्क के निर्माण के लिए सलाहकार कंपनी की नियुक्ति की प्रक्रिया भी शुरू हो गई थी, लेकिन जमीन का विवाद नहीं सुलझ पाने के कारण पूरी योजना ही अटक गई है। बताया गया कि यह जमीन मंडी समिति की है इसके लिए या तो उतनी ही कीमत वाली जमीन देनी होगी या फिर बाजार दर पर जमीन की कीमत मंडी समिति को देनी होगी।

सूत्रों के मुताबिक जमीन से जुड़े विवाद को सुलझाने की कोशिश भी हुई थी, लेकिन बाद में कोरोना प्रकोप के कारण इस पर आगे बात नहीं हो पाई। वैसे भी मंडी बोर्ड, मंडी को तुलसी-बाराडेरा में शिफ्ट करने की तैयारी कर रहा है। तुलसी बाराडेरा में मंडी तकरीबन तैयार हो गई है, लेकिन यहां अभी सीआरपीएफ का कैम्प है। सीआरपीएफ का नया कैम्प आरंग में तैयार हो रहा है। वहां सीआरपीएफ के वहां से हटने के बाद मंडी को वहां शिफ्ट किया जाएगा। फिलहाल तो पार्क की योजना ही पचड़े में पड़ गई है। यह कहा गया था कि रायपुर में बनने वाला जेम्स एण्ड ज्वेलरी पार्क मुम्बई, कोलकाता और सूरत के बाद देश का चौथा बड़ा जेम्स एण्ड ज्वेलरी पार्क होगा। यह पार्क अपने आप में अनूठा तथा देश और दुनिया के आकर्षण का केन्द्र बनेगा।

Related Articles

Close