भोपाल

MP विधानसभा उप चुनाव की तैयारी शुरू, 3 साल से जमे अफसर हटाए जाएंगे!

भोपाल
कोरोना महामारी (corona) में लागू लॉक डाउन (lockdown) के बीच मध्य प्रदेश में उपचुनाव (by election)की सरगर्मी तेज हो गई है. प्रदेश की 24 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होना है. चुनाव आयोग की तैयारी के बीच ये साफ हो गया है कि इन इलाकों में तीन साल से ज़्यादा समय से जमे अफसरों को हटाया जाएगा.

चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने अपने स्तर पर तैयारियां शुरू कर दी हैं. मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने 15 जिलों के कलेक्टरों को चिट्ठी लिखी है. इसमें चुनाव आचार संहिता नियमों का पालन करने के लिए कहा गया है. इसमें कर्मचारियों के तबादले के लिए पुराने निर्देशों का पालन करने के लिए कहा गया है. यानि जिन सीटों पर उपचुनाव होना है वहां बीते 3 साल से जमे अफसरों को हटाया जाएगा.

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने कलेक्टरों को पत्र लिखकर कर्मचारियों के तबादलों के मामले में 29 जून 2017, मार्च 2019 के आचार संहिता संबंधी निर्देशों का पालन सख्ती से करने के लिए कहा है. जिन जिलों में उपचुनाव होना है उसमें सबसे ज्यादा मुरैना जिले की सीटें हैं.मुरैना की जौरा, सुमावली, मुरैना, अंबाह सीट पर उपचुनाव होना है. जबकि भिंड के मेहगांव, गोहद, ग्वालियर जिले में ग्वालियर, ग्वालियर पूर्व,डबरा,दतिया में भांडेर, शिवपुरी में करेरा, अशोक नगर में अशोकनगर, गुना में गुना, सागर में सुरखी, बमोरी, अनूपपुर जिले में अनूपपुर, रायसेन में सांची, इंदौर में सांवेर, देवास में हाटपीपल्या, धार में बदनावर, मंदसौर में सुवासरा, आगर मालवा जिले में विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है. इसमें जौरा और आगर सीट विधायकों के निधन के कारण खाली हुई हैं जबकि बाकी 22 सीट कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे के कारण खाली हुई हैं.

जिन  24 विधानसभा सीटों पर उप चुनाव होना हैं उनमें से 6 रेड जोन में शामिल हैं. रेड जोन वाली सीटों में इंदौर जिले की सांवेर, देवास जिले की हाटपिपलिया, धार की बदनावर और ग्वालियर जिले में ग्वालियर,ग्वालियर पूर्व शामिल हैं.किसी विधानसभा सीट के खाली होने पर 6 महीने के अंदर उपचुनाव कराना होता है. लेकिन प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण लॉक डाउन है. लेकिन आयोग ने अब अपने स्तर पर तैयारियां शुरू कर दी हैं. जो बताती हैं कि लॉक डाउन खत्म होने के बाद इन 24 सीटों पर उप चुनाव की तारीखों का ऐलान हो सकता है.