देश

दिल्ली दंगे में फायरिंग करने वाले शाहरुख के खिलाफ 350 पेज की चार्जशीट

 
नई दिल्ली

नॉर्थ-ईस्ट दंगों को लेकर अदालत में पहली चार्जशीट दाखिल की गई है। जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के करीब ताबड़तोड़ फायरिंग करने और पुलिसकर्मी पर पिस्टल तानकर दहशत फैलाने के आरोपी शाहरुख पठान के खिलाफ यह चार्जशीट दाखिल की गई। पुलिस ने इस मामले में शाहरुख के अलावा उसके साथ मौका-ए-वारदात पर गए घोंडा के अरविंद नगर में रहने वाले इश्तियाक मलिक और मुजफ्फरनगर में पठान को पनाह देने वाले कलीम अहमद को भी आरोपी बनाया है।
कड़कड़डूमा कोर्ट में शुक्रवार को 350 पेज की यह चार्जशीट दाखिल की गई। वारदात 24 फरवरी दोपहर की है, जब सीएए के विरोध में धरना दे रही महिलाएं जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के नीचे सड़क पर बैठी हुई थीं। अचानक पथराव होने लगा तो एक लड़का हाथ में पिस्टल लहराता हुआ भागता हुआ आता है। वह हवाई फायरिंग करने लगता है और वहां तैनात पुलिसकर्मी दीपक दहिया के रोकने पर वह उन पर ही पिस्टल तान देता है। यह पूरा वाकया मीडिया के कैमरों में रिकॉर्ड हो गया, जो बाद में वायरल हो गया। इसके बाद आरोपी फरार हो गया था।

पुलिस ने उसकी पहचान घोंडा के अरविंद नगर निवासी शाहरुख पठान के तौर पर की। कॉन्स्टेबल दीपक दहिया के बयान पर जाफराबाद थाने में 26 फरवरी को आईपीसी की धारा 186, 353, 307 और आर्म्स ऐक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। क्राइम ब्रांच की नारकोटिक्स सेल के इंस्पेक्टर राम मनोहर की अगुवाई वाली टीम ने 3 मार्च को इसे मुजफ्फरनगर के कैराना से गिरफ्तार कर लिया। नॉर्थ-ईस्ट जिले में हुए दंगों में यह पहली गिरफ्तारी थी। शाहरुख से 7.65 एमएम की पिस्टल, दो कारतूस और वारदात में इस्तेमाल कार भी बरामद की गई।

ड्रग्स सप्लाई में पकड़े जाने पर पिता जा चुके हैं जेल
तफ्तीश के दौरान पुलिस ने दंगों की धारा 147,148, 149 और पनाह देने की धारा 216 इस मुकदमे में जोड़ दी। पुलिस ने गिरफ्तार करने के बाद दावा किया था कि जाफराबाद में उसने तीन राउंड फायर किए थे, जबकि दो राउंड वहां गिर गए थे। उसके पिता साबिर पठान ड्रग्स सप्लाई के धंधे में पकड़े जाने पर जेल भी जा चुके हैं। शाहरुख का नाम पहली बार किसी मामले में सामने आया। करीब दो महीने से जेल में बंद शाहरुख ने पिछले हफ्ते अदालत में जमानत याचिका दायर की थी, जिसमें कोरोना का खतरा बताते हुए बेल की मांग की थी।
 

Tags

Related Articles

Close