राजनीति

यहां दिल्ली से आ रहा कोरोना… हरियाणा ने केजरीवाल को कोसा

चंडीगढ़
हरियाणा सरकार ने दिल्ली की केजरीवाल सरकार पर कोरोना वायरस रोकने के उनके प्रयासों पर पानी फेरने का आरोप लगाया है। हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज का कहना है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को वहां काम करने वाले लोगों के लिए वहीं रुकने का इंतजाम करना चाहिए, जिससे हरियाणा में कोरोना न फैले।

विज ने इस मामले में केजरीवाल सरकार को पत्र लिखकर राज्य में आने वाले यात्रियों को वहीं रोकने को कहा है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि हरियाणा में दिल्ली के कारण कोरोना वायरस के केस बढ़ रहे हैं। इस बीच हरियाणा ने सभी अंतरराज्यीय सीमाओं, विशेष रूप से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के बॉर्डर सील कर दिए हैं। झज्जर, गुड़गांव, फरीदाबाद और पलवल जिलों में पुलिस की बढ़ती तैनाती के अलावा, वैध दस्तावेजों के साथ प्रवेश करने वालों से भी पूछताछ की जा रही है।

"दिल्ली से जो तबलीगी आए, उनमें से 120 कोरोना पॉजिटिव थे। उनका हमने इलाज किया। अब बहुत सारे ऐसे लोग जो दिल्ली में नौकरी करते हैं और रहते हरियाणा में, वे रोजाना पास बनाकर आते हैं। ऐसे लोग कोरोना कैरियर बन रहे हैं। हमारे सोनीपत में 9 कैसे ऐसे आए हैं, जिनको दिल्ली से संक्रमण हुआ। पानीपत में दिल्ली के एक कर्मचारी की बहन संक्रमित हुई और सारा परिवार संक्रमित हुई। इसके कारण समलखा थाने को क्वारंटाइन करना पड़ा। मेरा दिल्ली के मुख्यमंत्री से यह कहना है कि जो उनके कमर्चारी दिल्ली में काम कर रहे हैं, उनके रहने की व्यवस्था दिल्ली में करें। उनको पास जारी कर हरियाणा में न भेंजे। इससे हरियाणा में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है।"-अनिल विज, गृह मंत्री हरियाणा

तबलीगी जमातियों को भी प्रवेश देने का आरोप
अनिल विज ने केजरीवाल से हरियाणा और देश की राजधानी के बीच दैनिक यात्रियों को नियंत्रित करने की व्यवस्था करने को कहा। यहां तक कि उन्होंने दिल्ली सरकार पर यह भी आरोप लगाया है कि उनके कारण ही राज्य में तबलीगी जमात के लोग घुसे और राज्य में कोरोना पॉजिटिव केस की संख्या बढ़ाई।

अधिकांश मरीजों का दिल्ली कनेक्शन
अनिल विज ने कहा, 'हमने 120 तबलीगी की जांच की और उनका इलाज किया, जो नई दिल्ली से हरियाणा में आए थे। अब हमने पाया है कि कई कोरोना पॉजिटिव केस सीधे दिल्ली से जुड़े हैं। दिल्ली पुलिस के सिपाही और नई दिल्ली के अस्पताल के कर्मचारी और स्वास्थ्य कार्यकर्ता इसके उदाहरण हैं।' मंत्री ने कहा कि इसलिए यह दोनों राज्यों के हित में होगा कि दिल्ली सरकार कर्मचारियों के लिए नई दिल्ली में ही रहने की व्यवस्था करे।

'थोक में पास बांट रहे दिल्ली सरकार'
मंत्री ने कहा कि भले ही हमने सीमाओं को सील कर दिया है, फिर भी लोग हरियाणा में प्रवेश करते हैं क्योंकि उनके पास दिल्ली सरकार की तरफ से जारी किए गए पास हैं और एमएचए दिशानिर्देशों के अनुसार हम सिस्टम को बदनाम नहीं कर सकते। दिल्ली सरकार को भी पास जारी करने में संयम बरतना चाहिए।

हरियाणा में कोरोना पॉजिटिव की संख्या 300 के करीब
इस बीच हरियाणा में कोविड-19 संक्रमण के नौ नए मामले सामने आने के बाद संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 296 हो गई। रविवार को पानीपत जिले की एक महिला पुलिस उपनिरीक्षक और उसके परिवार के तीन सदस्यों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि पानीपत जिले के समालखा पुलिस थाने में महिला उप निरीक्षक के कोविड-19 से संक्रमित पाए जाने के बाद थाने से जुड़े 70 पुलिसकर्मियों पृथक कर दिया गया है।

विज ने कहा कि एसआई का भाई दिल्ली पुलिस में है और वह भी कोविड-19 से संक्रमित पाया गया है। इसके अलावा उनके माता-पिता के भी कोरोना वायरस संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। पानीपत से चार, हिसार से दो और सोनीपत से एक नया मामला सामने आया है। इससे पहले दिन में फरीदाबाद से दो मामले सामने आए थे।

दिल्ली कर्मचारियों की रोजाना आवाजाही से खतरा!
विज ने कहा कि राज्य सरकार ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से दिल्ली सरकार में काम कर रहे हरियाणा के निवासियों के ठहरने के लिए इंतजाम करने की अपील की गई है। पता चला है कि सोनीपत, गुड़गांव और फरीदाबाद समेत एनसीआर के जिलों में कोरोना वायरस के कई रोगी दिल्ली में कोविड-19 की चपेट में आए हैं। दिल्ली में काम कर रहे कर्मचारियों की हरियाणा में अपने निवास पर रोजाना आवाजाही से कोविड-19 के फैलने का खतरा बढ़ सकता है।

Tags

Related Articles

Close