विदेश

दुनिया भर में 1 लाख 80 हजार लोगों की जा चुकी है जान, दो तिहाई यूरोप में

 
पेरिस

दुनिया भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) से मौतों की संख्‍या बढ़ती ही जा रही है। अबतक एक लाख 80 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जिसमें करीब दो-तिहाई यूरोप (Europe) में हुई है। यह आंकड़ा आधिकारिक स्रोतों पर आधारित है। यह वायरस पहली बार पिछले साल दिसंबर में चीन (China) में सामने आया था।

आंकड़े के मुताबिक, दुनिया भर में अभी तक एक लाख 80 हजार 289 लोगों की मौत हो चुकी है और 25 लाख 96 हजार 383 लोग संक्रमित हुए हैं। यूरोप में एक लाख 12 हजार 848 लोगों की मौत हुई है जबकि 12 लाख 63 हजार 802 लोग इससे संक्रमित हैं। सर्वाधिक मौत अमेरिका में 45 हजार 153 लोगों की हुई है। इटली में कोरोना वायरस से 25 हजार 85, स्पेन में 21 हजार 717, फ्रांस में 21 हजार 340 और ब्रिटेन में 18 हजार 100 लोगों की मौत हो चुकी है।
 
लंबे समय तक रहेगा कोरोना: WHO
आपको बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) बुधवार को चेता चुका है कि कोरोना वायरस मानव समुदाय के साथ लंबे वक्त तक रहेगा। संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य संबंधी संस्था ने कहा कि अफ्रीका, सेंट्रल व दक्षिण अमेरिका के कुछ हिस्सों में महामारी की शुरुआत में खतरनाक ट्रेंड देखने को मिल रहे हैं। वहीं, इसके शीर्ष अधिकारी ने वैश्विक यात्रा से बैन हटाने में जल्दबाजी न करने की सलाह दी है।
 
कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने के लिए दुनिया भर में कोरोना फाइटर्स यानी स्वास्थ्य सेवा बिरादरी कड़ी मेहनत कर रही है। स्वास्थ्य सेवा के अधिकांश कार्यकर्ता अपनी सेवा के लिए लोगों से प्यार और गर्मजोशी प्राप्त कर रहे हैं। ऐसी ही एक घटना में और भारतीय मूल के डॉक्टर को अमेरिका में उनके घर के बाहर महामारी के दौरान उनकी सेवा के लिए सम्मानित किया गया। मैसूर मूल की डॉ उमा मधुसूदन को कोरोना वायरस के प्रकोप के दौरान दक्षिण विंडसर अस्पताल में उनकी सेवा के लिए एक वाहन परेड द्वारा सम्मानित किया गया। इस परेड का विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। डॉक्टर सम्मान को स्वीकार करते हुए परेड को हाथ हिलकर उनका धन्यवाद करती हुई देखी जा सकती हैं।

WHO ने कुछ दिन पहले चेताया था कि कोरोना वायरस से जुड़ा संकट आगे और बुरा रूप लेने जा रहा है। उन्होंने ऐसे समय में दुनिया को सचेत किया है जबकि कई देशों ने प्रतिबंधों में छूट देना शुरू कर दिया है। हालांकि डब्ल्यूएचओ चीफ ने यह नहीं बताया कि उन्हें ऐसा क्यों लगता है कि वायरस का संकट और गंभीर होने वाला है।

Tags

Related Articles

Close